हिंदी भाषा

hindi-blog-aur-usaki-samasyaen

हिंदी ब्लॉग: सीमाएँ और समस्याएं | Hindi Blogs

0
अब हिंदी केवल सम्प्रेषण की भाषा तक सीमित नहीं है। ज्ञान-विज्ञान के दूसरे क्षेत्रों तक उसका प्रचार-प्रसार हुआ है। लेकिन यह सब एक सीमा...

अपठित अवतरण पर आधारित प्रश्नों को हल करने हेतु निर्देश

0
अपठित अवतरण का अर्थ या अभिप्राय अधिकतर परीक्षाओं में हिंदी के ऐसे अवतरण (गद्यांश-पद्यांश) संबंधी प्रश्न पूछे जाते हैं। इन दिए गए गद्यांशों का पाठ्य...
hindi-ke-prachaar-prasaar-mein-vibhinn-sansthaon-ki-bhoomika-1

हिंदी के प्रचार-प्रसार में राजनीतिक संस्थाओं की भूमिका

0
उन्नीसवीं शताब्दी में हुए धार्मिक व सामाजिक आंदोलन के परिणाम स्वरूप शिक्षित भारतीयों के मध्य राजनीतिक चेतना का उदय हुआ। चूँकि उन्नीसवीं शताब्दी में...
hindi-bhasha-ka-kshetr-vistar.

हिंदी भाषा का भौगोलिक या क्षेत्र-विस्तार | kshetr vistar

1
हिंदी भाषा के क्षेत्र या भौगोलिक विस्तार पर बात करने से पहले दो-तीन बातों पर विचार कर लेना उपयुक्त होगा। जैसे की आपलोग जानते हैं की...
Kosh-ki-paribhasha-aur-prakar

कोश की परिभाषा और प्रकार | शब्दकोश

0
इस पोस्ट में कोश किसे कहते हैं, कोश की परिभाषा क्या है, कोश निर्माण की प्रक्रिया क्या है, कोश के कितने प्रकार हैं, एकभाषिक कोश-...
hindi-ke-prachaar-prasaar-mein-vibhinn-sansthaon-ki-bhoomika-1

हिंदी के प्रचार-प्रसार में साहित्यिक संस्थाओं की भूमिका

0
भारतेंदु युग में हिंदी साहित्य निर्माण का कार्य प्रचुर मात्रा में हुआ, खासकर हिंदी गद्य साहित्य में। हिंदी को मजबूत धरातल प्रदान करने में भारतेंदु और भारतेंदु...
hindi-ke-prachaar-prasaar-mein-vibhinn-sansthaon-ki-bhoomika-1

हिंदी के प्रचार-प्रसार में धार्मिक एवं सामाजिक संस्थाओं की भूमिका

0
अंग्रेजों की सत्ता स्थापित होने के बाद राष्ट्रीयता की एक अखिल भारतीय संकल्पना उभर कर आती है। भाषा का मुद्दा प्रमुख हो उठता है।...
pahadi-hindi-ki-boliyaan

पहाड़ी हिंदी की प्रमुख बोलियाँ और विशेषताएँ | pahadi hindi

0
खश (कुछ नये मतों के अनुसार शौरसेनी) अपभ्रंश से पहाड़ी भाषाएँ निकली हैं। इनकी लिपि देवनागरी है। हिमालय के तराई (निचले) भागों में बोली...
rajasthani-hindi-ki-boliyaan

राजस्थानी हिंदी की प्रमुख बोलियाँ और विशेषताएँ | rajasthani

0
भाषाशास्त्रियों ने राजस्थानी को हिंदी की पाँच उपभाषाओं- पश्चिमी हिंदी, पूर्वी हिंदी, बिहारी, पहाड़ी और राजस्थानी में स्थान दिया है। राजस्थान शब्द का इस प्रांत के लिए...
bihari-hindi-ki-boliyaan

बिहारी हिंदी की प्रमुख बोलियाँ और विशेषताएँ | bihari hindi

0
बिहारी हिंदी का विकास मागधी अपभ्रंश से हुआ है। जिसे दो भागों- पूर्वी बिहारी और पश्चिमी बिहारी में विभाजित किया जा सकता है। पूर्वी...
error: Content is protected !!