वस्तुनिष्ठ इतिहास

holi-aur-hindi-kavita

रंगों का पर्व होली और हिंदी कविता | holi 2021

0
होली वसंत ऋतु में मनाया जाने वाला भारतीय लोगों का महत्वपूर्ण त्यौहार है। रंगो की वजह से इसका लोकहर्षक रूप दिखाई देता है। यदि...
sant-kavya-dhara-ke-kavi-aur-unaki-rachnaye

भक्तिकाल के प्रमुख संत कवि और उनकी रचनाएँ | sant kavya

0
डॉ. पीताम्बर दत्त बड़ध्वाल ने संत शब्द का संबंध शांत से माना है जिसका अर्थ है निवृति मार्गी या वैरागी। भक्तिकाल में संत कवि...
rekhachitra-aur-rekhachitrakar

rekhachitra | हिंदी के प्रमुख रेखाचित्र और रेखाचित्रकार

0
रेखाचित्र रेखाचित्र अंग्रेज़ी के ‘स्केच’ (sketch) शब्द का समानार्थी है। रेखाचित्र (rekhachitra) मूल रूप से चित्रकला का शब्द है। वहीं से इस शब्द को लेकर...
yah-deep-akela-kavita-ki-vyakhya

यह दीप अकेला कविता की व्याख्या और प्रमुख तथ्य | अज्ञेय

0
यह दीप अकेला कविता- अज्ञेय  अज्ञेय का मूल नाम सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन है। इनका जन्म 7 मार्च 1911 ई. को कुशीनगर, देवरिया, उत्तर प्रदेश में हुआ...
geet-farosh-kavita-ki-vyakhya

गीत-फरोश कविता की व्याख्या और प्रमुख तथ्य | भवानीप्रसाद मिश्र

0
गीत-फरोश: भवानीप्रसाद मिश्र भवानी प्रसाद मिश्र नई कविता के दौर के कवि हैं। दूसरे सप्तक (1951 ई.) में शामिल भवानी एक गांधीवादी कवि माने जाते हैं। ‘गीत फरोश’ कविता...
pragativadi-kavy-aur-kavi

प्रगतिवादी काव्य और उनके प्रमुख कवि

0
प्रगतिवादी काव्य धारा का समय (समय-सीमा) 1936 से 1943 ई. तक माना गया है। सन् 1934 ई. में गोर्की के नेतृत्व में रूस में...
chhayavadi-yug-ke-kavi-aur-rachnaye

छायावादी युग के कवि और उनकी रचनाएं | राष्ट्रीय-सांस्कृतिक काव्य-धारा और प्रेम और मस्ती...

0
छायावाद की कालावधि 1920 या 1918 से 1936 ई. तक मानी जाती है। वहीं इलाचंद्र जोशी, शिवनाथ और प्रभाकर माचवे ने छायावाद का आरंभ लगभग 1912-14...
bhartendu-yug-ke-kavi-aur-rachnaye

भारतेंदु युग के कवि और उनकी रचनाएँ

2
हिन्दी साहित्य के इतिहास में आधुनिक काल के प्रथम चरण को ‘भारतेंदु युग’ के नाम से जाना जाता है। भारतेंदु हरिश्चंद्र को हिन्दी साहित्य...
dwivedi-yug-ke-kavi-aur-rachnaye

द्विवेदी युग के कवि और उनकी रचनाएँ

1
आधुनिक कविता के दूसरे पड़ाव (सन् 1903 से 1916) को द्विवेदी-युग के नाम से जाना जाता है। डॉ. नगेन्द्र ने द्विवेदी युग को ‘जागरण-सुधार काल’ भी कहा जाता है...
alankar-siddhant-aur-uske-pramukh-acharya

अलंकार सिद्धांत और उसके प्रमुख आचार्य

0
अलंकार संप्रदाय के प्रतिष्ठापक आचार्य भामह हैं। हलांकि आचार्य भरत मुनि ने अलंकार संबंधी कई स्थापनाएं प्रस्तुत किया परंतु उन्होंने रस सिद्धांत को ही प्रमुखता...
error: Content is protected !!