वस्तुनिष्ठ इतिहास

pashchaty-kavyshastr-ke-sidvant-vad

पाश्चात्य काव्यशास्त्र के प्रमुख सिद्धांत और उनके प्रवर्तक

0
पाश्चात्य काव्यशास्त्र पाश्चात्य काव्यशात्र का इतिहास काफी समृद्ध है। 8वीं शदी ईसा पूर्व से ही काव्यशास्त्र संबंधी साक्ष्य उपलब्ध होने लगते हैं परंतु व्यवस्थित विचार...
paschatya-kavyashastra-ke-prmukh-granth

पाश्चात्य काव्यशास्त्र के प्रमुख ग्रंथ और उसके लेखक

0
पाश्चात्य काव्यशास्त्र पाश्चात्य काव्यशास्त्र के उद्भव ईसा के आठ शताब्दी पूर्व से मिलने लगते हैं। होमर और हेसिओड जैसे कवियों के काव्य में पाश्चात्य काव्यशास्त्रीय...
hindi-upanyaskar-aur-upanyas

हिंदी के प्रमुख उपन्यासकार और उनके उपन्यास | hindi upanyas list

0
लाला श्रीनिवासदास कृत ‘परीक्षा गुरु’ (1882 ई.) को हिन्दी का प्रथम उपन्यास माना जाता है। रामचंद्र शुक्ल भी इसे ही अंग्रेजी ढंग का प्रथम उपन्यास...
hindi-ki-milti-julti-rchnayen

हिन्दी साहित्य की मिलती-जुलती नामों वाली रचनाएँ और रचनाकार

0
हिंदी साहित्य में कई लेखकों की रचनाओं के नामों में काफी साम्यता है, कई रचनाओं का एक ही नाम है। इसलिए अक्सर प्रतियोगी परीक्षाओं...
hindi-ke-tryi

हिंदी साहित्य के प्रमुख त्रयी | hindi sahity ke prmukh tryi

0
हिंदी साहित्य में कई त्रयी प्रसिद्ध रहे, उनमें से कुछ त्रयी जो प्रतियोगी परीक्षाओं के लिहाज से महत्वपूर्ण हैं, जिनसे प्राय: प्रश्न पूछें जाते...
ritikal-ki-pramukh-pravritiyan

रीतिकालीन काव्य की प्रमुख प्रवृतियाँ | reetikal

2
रीतिकालीन काव्य की रचना सामंती परिवेश और छत्रछाया में हुई है इसलिए इसमें वे सारी विशेषताएँ पाई जाती हैं जो किसी भी सामंती और...
ritibadh-kavi-aur-unki-rchnayen

रीतिबद्ध काव्यधारा के कवि और उनकी रचनाएँ

0
रीतिबद्ध कवि जिन कवियों नें शास्त्रीय ढंग पर लक्षण उदाहरण प्रस्तुत कर अपने ग्रंथों की रचना किया उन्हें रीतिबद्ध श्रेणी में रखा गया है। हिन्दी के...
ritikal-ka-namkaran-vibhajan-evm-pravartak

रीतिकाल का नामकरण, विभाजन एवं प्रवर्तक

1
सामान्यत: 17वीं शती के मध्य से 19वीं शती के मध्य तक रीतिकाल की अवधि मानी जाती है। रीतिकाल के नामकरण, विभाजन और प्रवर्तकों को लेकर...
ritimukt-kavi-aur-unki-rchnayen

रीतिमुक्त काव्यधारा के कवि और उनकी रचनाएँ

0
रीतिमुक्त कवि इस वर्ग में वे कवि आते हैं जो ‘रीति' के बन्धन से पूर्णतः मुक्त हैं अर्थात इन्होने काव्यांग निरूपण करने वाले ग्रन्थों लक्षण ग्रन्थों...
ritisidh-kavi-aur-unki-rchnayen

रीतिसिद्ध काव्यधारा के कवि और उनकी रचनाएँ

3
रीतिसिद्ध कवि जिन कवियों ने लक्षण और उदाहरण शैली पर काव्य सृजन तो नहीं किया परंतु रचना करते समय उनका झुकाव लक्षण ग्रंथों पर अवश्य...
error: Content is protected !!