LATEST ARTICLES

nobel-prize-2021-winners-list

नोबेल पुरस्कार 2021 विजेताओं की सूची | Nobel Prize 2021

0
वर्ष 2021 के नोबेल पुरस्कार विजेताओं (winners) के नाम की घोषणा होना शुरू हो गया है। यह पुरस्कार (awards) नोबेल फाउंडेशन द्वारा स्वीडन के...
jago-fir-ek-bar-kavita-ki-vyakhya

जागो फिर एक बार (1) कविता की व्याख्या और समीक्षा | निराला

0
सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ की ‘जागो फिर एक बार’ (भाग- 1) कविता ‘परिमल’ नामक संग्रह से ली गई है जो गंगा पुस्तक माला लखनऊ से...
rpsc-colleges-lecture-hindi-solved-question-papers

RPSC colleges lecture Hindi 2nd Question Papers 2020

1
राजस्थान सहायक आचार्य हिंदी परीक्षा 2020 की द्वितीय प्रश्न पत्र की परीक्षा 23-09-2021 द्वितीय पाली में आयोजित हुई थी। rpsc colleges lecture hindi का...
rpsc-colleges-lecture-hindi-solved-question-papers

RPSC colleges lecture Hindi 1st Question Papers 2020

0
राजस्थान सहायक आचार्य हिंदी परीक्षा 2020 की प्रथम प्रश्न पत्र की परीक्षा 23-09-2021 को प्रथम पाली में आयोजित हुई थी। rpsc colleges lecture hindi...
devrani-jethani-ki-kahani-pandit-gauri-dutt

देवरानी जेठानी की कहानी की समीक्षा और सारांश | पं. गौरी दत्त

0
देवरानी जेठानी की कहानी एक उपन्यास है जिसके लेखक पंडित गौरी दत्त हैं। इस उपन्यास का प्रकाशन 1870 ई. में मेरठ के एक लीथो...
juhi-ki-kali-kavita-ki-vyakhya

जुही की कली कविता की व्याख्या और समीक्षा | सूर्यकान्त त्रिपाठी

0
‘जूही की कली’ कवित्त छंद में रची गयी एक प्रणय कविता है। इस कविता को 1916 ई. में ‘सरस्वती’ पत्रिका के संपादक महावीर प्रसाद...
gic-hindi-questions-paper-2021

UP GIC HINDI Questions Paper 2021 | GIC हिंदी प्रवक्ता

2
उत्तर प्रदेश द्वारा GIC HINDI 2021 की यह परीक्षा 19/09/2021 को आयोजित हुई थी। हिंदी प्रवक्ता के यह प्रश्न पत्र दो भागों में विभाजित...
bandho-na-naav-is-thanv-bandhu-kavita-ki-vyakhya

बाँधो न नाव इस ठाँव, बंधु! कविता की व्याख्या | निराला

0
बाँधो न नाव इस ठाँव, बंधु!कविता सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ की है। निराला की यह कविता ‘अर्चना’ नामक संग्रह में से ली गई है जिसका...
sikka-badal-gaya-kahani-ki-sameeksha

सिक्का बदल गया कहानी की समीक्षा एवं सारांश | कृष्णा सोबती

0
कृष्णा सोबती हिंदी की महत्वपूर्ण और सम्मानित कथाकार हैं। उनके अब तक प्रकाशित उपन्यासों में मित्रो मरजानी (1967 ई.), डार से बिछुड़ी (1948 ई.),...
aksdhdip-kahani-ki-sameeksha

आकाशदीप कहानी की समीक्षा एवं सारांश | जयशंकर प्रसाद

0
जयशंकर प्रसाद छायावाद के प्रमुख स्तंभ माने जाते हैं इन्हें छायावाद का ब्रह्म कहा जाता हैं। इनकी पहली कहानी ‘ग्राम’ 1911 ई. में ‘इंदु’...