व्यास सम्मान सूची | Vyas Samman List

0
27499
vyas-samman-list
vyas samman list

व्यास सम्मान (vyas samman) भारतीय साहित्य के लिए दिया जाने वाला ज्ञानपीठ पुरस्कार (Gyanpeeth Award) के बाद दूसरा सबसे बड़ा साहित्य-सम्मान है। इस पुरस्कार को 1991 ई. में के. के. बिड़ला फाउंडेशन ने प्रारंभ किया था। इस पुरस्कार में 4 लाख रुपए नकद, प्रशस्ति पत्र और एक प्रतीक चिह्न प्रदान किया जाता है। प्रथम व्यास सम्मान 1991 ई. में प्रगतिवादी आलोचक रामविलास शर्मा को उनकी रचना ‘भारत के प्राचीन भाषा परिवार और हिन्दी’ को प्रदान किया गया था।

व्यास सम्मान संबंधित प्रमुख तथ्य

1. व्यास सम्मान के. के. बिड़ला फाउंडेशन द्वारा प्रदान किया जाता है।
2. यह पुरस्कार किसी भी साहित्यिक रचना को प्रदान किया जाता है जो पिछले 10 वर्षों के भीतर प्रकाशित हुई हो।
3. यह सम्मान किसी भी भारतीय नागरिक की हिन्दी की उत्कृष्ट साहित्य कृति के लिए प्रदान किया जाता है।
4. व्यास सम्मान साहित्यकार के किसी एक रचना को प्रदान किया जाता है न कि उसके सम्पूर्ण लेखन पर।
5. सृजनात्मक साहित्य के आलावा अन्य विधा पर भी यह पुरस्कार प्रदान किया जा सकता है।
6. कोई भी साहित्यकार केवल एक बार ही पुरस्कार प्राप्त कर सकता है, दुबारा विचार नहीं किया जाता।
7. यह सम्मान रचनाकार के मरणोपरांत प्रदान नहीं किया जाता, यदि रचना पर चयन समिति द्वारा विचार-विमर्श के बाद मृत्यु होती है तो उस पर पुरस्कार दिया जा सकता है।

व्यास सम्मान 2023

के के बिड़ला फ़ाउंडेशन द्वारा दिया जाने वाला प्रतिष्ठित व्यास सम्मान पुष्पा भारती को उनके संस्मरण ‘यादें, यादें और यादें‘ के लिए देने की घोषणा हुई है। इस पुस्तक में माखनलाल चतुर्वेदी, महादेवी वर्मा, निराला, अज्ञेय, धर्मवीर भारती, हरिवंश राय बच्चन, राही मासूम रजा, कवि प्रदीप जैसे लेखकों से संबंधित संस्मरण हैं। वर्ष 2016 में प्रकाशित इस संस्मरण को सुप्रसिद्ध विद्वान प्रो. राम जी तिवारी की अध्यक्षता में संचालित एक चयन समिति ने vyas samman 2023 के लिए चयन किया।

व्यास सम्मान 2022

समकालीन हिंदी कथा साहित्य के लेखक डॉ. ज्ञान चतुर्वेदी को वर्ष 2022 के ‘व्यास सम्मान’ के लिए चुना गया है। डॉ. ज्ञान चतुर्वेदी को वर्ष 2020 में प्रकाशित उनके उपन्यास ‘पागलखाना’ के लिए वर्ष 2022 का ‘व्यास सम्मान’ दिया गया है। यह निर्णय रामजी तिवारी की अध्यक्षता वाली चयन समिति ने किया। उनका यह पांचवा उपन्यास है। इसमें उन्होंने बाजार की फैंटेसी रचा है और वे मानते हैं कि बाजार के बिना जीवन संभव नहीं है। ज्ञान चतुर्वेदी के ‘नरक यात्रा’, ‘बारामासी’ और ‘हम न मरब’ आदि अन्य उपन्यास हैं।

ज्ञान चतुर्वेदी कोज्ञान चतुर्वेदी को हिंदी साहित्य में उत्कृष्ट लेखन के लिए मध्य प्रदेश सरकार द्वारा ‘राष्ट्रीय शरद जोशी सम्मान’, हिंदी अकादमी, दिल्ली का ‘अकादमी सम्मान’, अन्तर्राष्ट्रीय इन्दु शर्मा कथा-सम्मान (लन्दन) और वर्ष 2015 में भारत सरकार द्वारा ‘पद्मश्री’ से भी सम्मानित किया जा चुका है।

व्यास सम्मान सूची (vyas samman list)

वर्षरचनाकाररचनाविधा
2023पुष्पा भारतीयादें, यादें और यादेंसंस्मरण
2022ज्ञान चतुर्वेदीपागलखानाउपन्यास
2021असगर वजाहत महाबलीनाटक
2020शरद पगारेपाटलिपुत्र की सम्राज्ञीउपन्यास
2019नासिरा शर्माकागज की नावउपन्यास
2018लीलाधर जगूड़ीजितने लोग उतने प्रेमकविता संग्रह
2017ममता कालियादुक्खम सुक्खमउपन्यास
2016सुरेंद्र वर्माकाटना शमी का वृक्ष: पद्मपखुरी की धार सेउपन्यास
2015सुनीता जैनक्षमाकविता संग्रह
2014कमल किशोर गोयनकाप्रेमचंद की कहानियों का काल-क्रमानुसार अध्ययनआलोचना
2013विश्वनाथ त्रिपाठीव्योमकेश दरवेशसंस्मरण
2012नरेन्द्र कोहलीन भूतो न भविष्यतिउपन्यास
2011रामदरश मिश्राआम के पत्तेकविता संग्रह
2010विश्वनाथ प्रसाद तिवारीफिर भी कुछ रह जायेंगाकविता संग्रह
2009अमरकांतइन्हीं हथियारों सेउपन्यास
2008मन्नू भंडारीएक कहानी यह भीआत्मकथा
2007कृष्णा सोबतीसमय सरगमउपन्यास
2006परमानंद श्रीवास्तवकविता का अर्थातआलोचना
2005चंद्रकांताकथा सरित्सागरउपन्यास
2004मृदुला गर्गकठगुलाबउपन्यास
2003चित्रा मुद्गलआवांउपन्यास
2002कैलाश बाजपेजीपृथ्वी का कृष्णपक्षआलोचना
2001रमेश चंद्र शाहआलोचना का पक्षआलोचना
2000गिरिराज किशोरपहला गिरमिटियाउपन्यास
1999श्रीलाल शुक्लबिसरामपुर का संतउपन्यास
1998गोविन्द मिश्रपाँच आँगनों वाला घरउपन्यास
1997केदारनाथ सिंहउत्तर कबीर तथा अन्य कविताएँकविता संग्रह
1996राम स्वरूप चतुर्वेदीहिन्दी साहित्य और संवेदना का विकासइतिहास
1995कुँवर नारायणकोई दूसरा नहींकविता संग्रह
1994धर्मवीर भारतीअंधायुगनाटक
1993गिरिजाकुमार माथुरमैं वक़्त के हूँ सामनेकविता संग्रह
1992शिव प्रसाद सिंहनीला चाँदउपन्यास
1991रामविलास शर्माभारत के प्राचीन भाषा परिवार और हिन्दीआलोचना
व्यास सम्मान सूची

के.के. बिड़ला फाउंडेशन द्वारा दिए जाने वाले पुरस्कार

कृष्ण कुमार बिड़ला ने सन् 1991 में के.के. बिड़ला फाउंडेशन की स्थापना किया था। फाउंडेशन का उद्देश्य साहित्य (विशेष रूप से हिन्दी साहित्य) और कलाओं के विकास को प्रोत्साहित करना है। इसके साथ ही यह शिक्षा एवं सामाजिक कार्य के क्षेत्र में भी काम करता है। इस फाउन्डेशन द्वारा व्यास सम्मान के आलावा कई और भी पुरस्कार प्रदान किये जाते हैं, जिसमें से प्रमुख हैं-

इसे भी देखें-

Q. ‘व्यास सम्मान’ की स्थापना किस वर्ष हुई थी?

Ans. ‘व्यास सम्मान’ की स्थापना 1991 ई. में के.के. बिड़ला फाउंडेशन द्वारा किया गया था।

Q. व्यास सम्मान कितने भाषा में दिया जाता है?

Ans. के.के. बिड़ला फाउंडेशन द्वारा स्थापित ‘व्यास सम्मान’ प्रत्येक वर्ष हिंदी भाषा में दिया जाता है।

Q. व्यास सम्मान पाने वाली प्रथम महिला कौन है?

Ans. व्यास सम्मान पाने वाली प्रथम महिला ‘चित्रा मुद्गल’ हैं, उन्हें यह पुरस्कार वर्ष 2003 में उनके उपन्यास ‘आवां’ पर मिला था।

Q. व्यास सम्मान से सम्मानित प्रथम लेखक कौन थे?

Ans. व्यास सम्मान से सम्मानित प्रथम लेखक ‘कौन थे?’रामविलास शर्मा’ हैं, उन्हें यह पुरस्कार वर्ष 1991 में उनके आलोचना ग्रंथ ‘भारत के प्राचीन भाषा परिवार और हिंदी’ पर मिला था।

Q. ज्ञान चतुर्वेदी को 32वां ‘व्यास सम्मान’ किस रचना पर मिला है?

Ans. डॉ. ज्ञान चतुर्वेदी को 32वां ‘व्यास सम्मान’ उनके उपन्यास ‘पागलखाना’ पर प्रदान किया गया है।

Q. व्यास सम्मान 2023 किसे प्रदान किया गया?

Ans. पुष्पा भारती को उनके संस्मरण ‘यादें, यादें और यादें’ के लिए वर्ष 2023 का व्यास सम्मान से सम्मानित किया गया।

Q. के.के. बिरला फाउंडेशन की ओर से कौन-कौन से पुरस्कार प्रदान किया जाता है?

Ans. के.के. बिरला फाउंडेशन की ओर से सरस्वती सम्मान, बिहारी पुरस्कार, व्यास सम्मान, शंकर पुरस्कार, वाचस्पति पुरस्कार और घनश्यामदास बिड़ला पुरस्कार प्रदान किया जाता है?

Previous articleभारत-भारती सम्मान सूची | Bhart-Bharti Award list
Next articleशलाका सम्मान सूची | Shalaka Awards List