व्याकरण

सर्वनाम की परिभाषा, प्रकार एवं उदाहरण | pronoun

0
सर्वनाम संज्ञा के बार-बार प्रयोग को रोकने के लिए उसके स्थान पर जिन शब्दों का प्रयोग किया जाता है, उन्हें सर्वनाम (pronoun) कहते हैं। अर्थात जिन शब्दों का...
ras-ki-paribhasha-bhed-aur-udaharan

रस की परिभाषा, भेद और उदाहरण | ras ki paribhasha

0
‘रसस्यतेऽसौ इति रसः’ के रूप में रस शब्द की व्युत्पत्ति हुई है, अर्थात् जो चखा जाय या जिसका आस्वादन किया जाय ‘अथवा’ जिससे आनन्द...
sangya-aur-sangya-ke-prakar

संज्ञा की परिभाषा, प्रकार एवं उदाहरण

5
संज्ञा की परिभाषा: किसी भी व्यक्ति, प्राणी, वस्तु, स्थान, गुण, जाति या भाव, दशा आदि के नाम को संज्ञा (sangya) कहते हैं। वासुदेवनंदन प्रसाद के अनुसार ‘संज्ञा (noun) उस विकारी शब्द को...
alankar-hindi-vyakaran

अलंकार की परिभाषा, भेद और उदाहरण

0
अलंकार क्या है काव्य की शोभा बढ़ानेवाले उपकरणों को अलंकार करते हैं। जैसे अलंकरण धारण करने से शरीर की शोभा बढ़ जाती है, वैसे ही अलंकरण...
upsarg-in-hindi-vyakaran

उपसर्ग की परिभाषा, भेद और उदाहरण | upsarg

0
उपसर्ग “उपसर्ग उस शब्दांश या अव्यय को कहते है, जो किसी शब्द के पहले आकर उसका विशेष अर्थ प्रकट करता है।” तात्पर्य यह है की...
visheshan-visheshy-aur-pravisheshan

विशेषण, विशेष्य और प्रविशेषण | visheshan

0
विशेषण की परिभाषा: जिस शब्द से संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता प्रगट हो उसे विशेषण (visheshan) कहते हैं। विशेषण ऐसा विकारी शब्द होता है, जो सर्वथा संज्ञा या सर्वनाम...
shabd-shkti

शब्द शक्ति की परिभाषा और प्रकार | shabd shkti

0
शब्द शक्ति क्या है? शब्द या शब्द समूह में जो अर्थ छिपा होता है, उसे प्रकाशित करने वाली शक्ति का नाम शब्द शक्ति (shabd shakti)...
samas-in-hindi

samas | समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण

1
समास क्या है? समास (samas) का शाब्दिक अर्थ होता है- सक्षेप या संक्षिप्तीकरण। संक्षिप्तीकरण की यह प्रकिया शब्दों को पास-पास (सम् + आस = पास बिठाना)...
error: Content is protected !!