समकालीन हिंदी नाटक के आलोचक और आलोचना ग्रंथ सूची

0
1811
samkalin-hindi-naty-aalochna
समकालीन हिंदी नट्यालोचना और आलोचक

समकालीन हिंदी नट्यालोचना

इस पोस्ट में आप समकालीन नाट्य आलोचकों के आलोचना ग्रंथो की सूची पढ़ सकते हैं। समकालीन हिन्दी नाट्यआलोचना में कई महत्वपूर्ण आलोचक उभर कर आए। जिन्होंने न केवल समकालीन नाटक और रंगमंच की दिशा बदल कर रख दिया अपितु कई आलोचना ग्रंथ भी लिखे। प्रमुख नाट्य आलोचकों और उनके ग्रंथों के बारे में नीचे दिया जा रहा है। samkalin hindi naty aalochna aur aalochk के अंतर्गत प्रमुख नाट्यआलोचना की सूची नीचे दी जा रही है-

नेमिचंद्र जैन
1.      अधूरे साक्षात्कार2.      रंग-दर्शन
3.      भारतीय नाट्य परम्परा4.      आधुनिक हिंदी नाटक और रंगमंच
5.      रंग परम्परा6.      दृश्य- अदृश्य
7.      तीसरा पाठ8.      बदलते परिदृश्य
9.      जनातिक10.    
नेमिचंद्र जैन
गिरीश रस्तोगी
प्रसाद का कथा-साहित्यमोहन राकेश और उनके नाटक
समकालीन नाटक की संघर्ष चेतनाहिंदी नाटक का आत्मसंघर्ष
गिरीश रस्तोगी
जयदेव तनेजा
हिंदी रंगादोलन के संदर्भ में मोहन राकेश के नाटकों का योगदानमोहन राकेश : रंग-शिल्प और प्रदर्शन
आधुनिक नाट्य-विमर्श
जयदेव तनेजा
देवेन्द्र राज अंकुर
1.    दर्शन-प्रदर्शन2.    रंग-कोलाज
3.    पहला रंग4.    रंगमंच का सौंदर्यशास्त्र
5.    सातवाँ रंग6.    पढ़ते सुनते देखते
7.    अंतरंग बहिरंग8.    रंगदर्शन
देवेन्द्र राज अंकुर
समकालीन हिंदी नट्यालोचना के अन्य आलोचक और आलोचना ग्रंथ-
1.  गोविन्द चातकनाटककार : जगदीशचंद्र माथुर,आधुनिक नाटक के अग्रदूत मोहन राकेश
2.  सत्येन्द्र तनेजानाटककार भारतेंदु की रंग-परिकल्पना
3.  दशरथ ओझाहिंदी नाटक : उद्भव और विकास,आज का हिंदी नाटक : प्रगति और प्रभाव
4.  प्रयाग शुक्लआज की कला
5.  हृषिकेश सुलभरंग-अरंग,रंगमंच का जनतंत्र
6.  सिद्धनाथ कुमारहिंदी एकांकी
7.  स्वयंप्रकाशरंगशाला में एक दोपहर
8.  कमला प्रसादरचना और आलोचना की द्वन्द्वात्मकता,दरअसल
9.  भवदेव पाण्डेयभारतेंदु हरिश्चन्द्र : नए परिदृश्य,बंगमहिला : नारीमुक्ति का संघर्ष,आचार्य रामचंद्र शुक्ल : आलोचना के नए मानदंड
10.         आशीष त्रिपाठीसमकालीन हिंदी रंगमंच और रंगभाषा
11.         अरविंद त्रिपाठीहिंदी आलोचना के नवरंग
नट्यालोचना
Previous articleदेवीशंकर स्मृति सम्मान सूची | Devishanker Awasthi Award list
Next articleहिंदी साहित्य के समकालीन आलोचक और आलोचना ग्रंथ