Tags Hindi-itihas

Tag: hindi-itihas

rekhachitra | हिंदी के प्रमुख रेखाचित्र और रेखाचित्रकार

रेखाचित्र रेखाचित्र अंग्रेज़ी के ‘स्केच’ (sketch) शब्द का समानार्थी है। रेखाचित्र (rekhachitra) मूल रूप से चित्रकला का शब्द है। वहीं से इस शब्द को लेकर...

महामारी और अकाल पर आधारित हिंदी साहित्य की प्रमुख रचनाएँ

कोरोना के बहाने तमाम साहित्यकारों और विद्वानों का ध्यान महामारी और अकाल की तरफ गया है। यह चर्चा-परिचर्चा का प्रमुख विषय बन गया है।...

प्रगतिवादी काव्य और उनके प्रमुख कवि

प्रगतिवादी काव्य धारा का समय (समय-सीमा) 1936 से 1943 ई. तक माना गया है। सन् 1934 ई. में गोर्की के नेतृत्व में रूस में...

छायावादी युग के कवि और उनकी रचनाएं | राष्ट्रीय-सांस्कृतिक काव्य-धारा और प्रेम और मस्ती का काव्य

छायावाद की कालावधि 1920 या 1918 से 1936 ई. तक मानी जाती है। वहीं इलाचंद्र जोशी, शिवनाथ और प्रभाकर माचवे ने छायावाद का आरंभ लगभग 1912-14...

भारतेंदु युग के कवि और उनकी रचनाएँ

हिन्दी साहित्य के इतिहास में आधुनिक काल के प्रथम चरण को ‘भारतेंदु युग’ के नाम से जाना जाता है। भारतेंदु हरिश्चंद्र को हिन्दी साहित्य...

द्विवेदी युग के कवि और उनकी रचनाएँ

आधुनिक कविता के दूसरे पड़ाव (सन् 1903 से 1916) को द्विवेदी-युग के नाम से जाना जाता है। डॉ. नगेन्द्र ने द्विवेदी युग को ‘जागरण-सुधार काल’ भी कहा जाता है...

हिंदी साहित्य इतिहास लेखन की पद्धतियाँ | hindi sahity itihas lekhan ki paddhati

हिंदी साहित्येतिहास (hindi sahity ka itihas) लेखन प्रमुख रूप से 5 दृष्टियों/पद्धतियों को आधार बनाकर लिखा गया है जो निम्न हैं-1.   वर्णानुक्रम पद्धति 2.   कालानुक्रम पद्धति 3.   वैज्ञानिक पद्धति 4.   विधेयवादी पद्धति 5.   नारीवादी पद्धति उपरोक्त पद्धतियों (itihas lekhan ki paddhati) का विस्तार से...

पाश्चात्य काव्यशास्त्र के प्रमुख ग्रंथ और उसके लेखक

पाश्चात्य काव्यशास्त्र पाश्चात्य काव्यशास्त्र के उद्भव ईसा के आठ शताब्दी पूर्व से मिलने लगते हैं। होमर और हेसिओड जैसे कवियों के काव्य में पाश्चात्य काव्यशास्त्रीय...

हिंदी के प्रमुख उपन्यासकार और उनके उपन्यास | hindi upanyas list

लाला श्रीनिवासदास कृत ‘परीक्षा गुरु’ (1882 ई.) को हिन्दी का प्रथम उपन्यास माना जाता है। रामचंद्र शुक्ल भी इसे ही अंग्रेजी ढंग का प्रथम उपन्यास...

हिन्दी साहित्य की मिलती-जुलती नामों वाली रचनाएँ और रचनाकार

हिंदी साहित्य में कई लेखकों की रचनाओं के नामों में काफी साम्यता है, कई रचनाओं का एक ही नाम है। इसलिए अक्सर प्रतियोगी परीक्षाओं...

Most Read

error: Content is protected !!