रस सम्प्रदाय और उसके प्रमुख आचार्य | ras siddhant

1
8835
ras-sampraday-ke-pramukh-acharya
रस सम्प्रदाय और उसके प्रमुख आचार्य

रस-सम्प्रदाय (ras siddhant)

यद्यपि भारतीय काव्यशास्त्र में रस सिद्धांत सबसे प्राचीन है परंतु इसे व्यापक प्रतिष्ठा बाद में मिली, यही वजह है की सबसे प्राचीन अलंकार सिद्धांत को माना जाने लगा। भरतमुनि (200 ई. पू.) को रस सम्प्रदाय का प्रवर्तक माना जाता है। उन्होंने ही रस का सबसे पहले निरूपण ‘नाट्यशास्त्र’ में किया, इसीलिए उन्हें रस निरूपण का प्रथम व्याख्याता एवं उनके ग्रंथ ‘नाट्यशास्त्र’ को रस निरूपण का प्रथम ग्रंथ माना जाता है। उन्होंने अपने ग्रंथ के छठे अध्याय में रस सूत्र तथा सातवें में विभाव, अनुभाव और संचारी भाव तथा स्थायीभाव की व्याख्या किया है।

भरतमुनि के रस सूत्र के अनुसार, “विभावानुभावव्यभिचारि संयोगाद्रसनिष्पत्तिः।” अथार्त विभाव, अनुभाव और व्यभिचारी भावों (स्थायीभाव) के संयोग से रस निष्पति होती है। ‘निष्पत्ति’ शब्द का प्रथम प्रयोग भरत मुनि ने रस सूत्र में किया। शंकुक के अनुसार भरतमुनि के रस-सूत्र में आये ‘संयोग’ शब्द का अर्थ अनुमान है।

भरतमुनि ने रस को आस्वाद प्रदान करने वाला तत्व मानते हैं- ‘आस्वाद्यत्वात्’। भरतमुनि के अनुसार, “जिस प्रकार नाना प्रकार के व्यंजनों, औषधिओं एवं द्रव्य प्रदार्थों के मिश्रण से भोज्य रस की निष्पत्ति होती हैं, उसी प्रकार नाना प्रकार के भावों के संयोग से स्थायी भाव भी नाट्य रस को प्राप्ति हो जाते हैं।”

भरतमुनि के रस विवेचन का सार

1. रस आस्वाद्य होता है, आस्वाद नहीं।

2. रस अनुभूति का विषय है, वह अपने में कोई अनुभूति नहीं है।

3. रस विषयगत होता है, विषयीगत नहीं। भरत विषयगत रूप में रस की व्यख्या भी करते हैं।

4. स्थाई भाव, विभावादि के संयोग से रस रूप में परिणत होता है।

5. रस का मूल आधार यही स्थायी भाव है जो रस तो नहीं है परंतु विभावादि के संयोग से रस के रूप में बदल जाता है।

6. नायक (अभिनेता) का स्थायी भाव ही रस के रूप में बदलता है।

अन्य आचार्यों द्वारा दी गई रस की परिभाषा

भरतमुनिविभावानुभावव्यभिचारि संयोगाद्रसनिष्पत्तिः।
दण्डी“वाक्यस्य, ग्राम्यता योनिर्माधुर्ये दर्शतो रस:।”
धनन्जय“विभावैरनुभावैश्च सात्विकैर्घ्य भिचारिभिः।आनीयमानः स्वाद्यत्व स्थायी भावो रस: स्मृतः॥”
अभिनवगुप्त“सर्वथा रसनात्मक वीतविघ्न प्रतीतिग्राह्यो भाव एवं रसः।”
मम्मट“व्यक्तः स तैर्विभावाद्यौः स्थायी भावो रसः स्मृतः।”
पं. राज जगन्नाथ“अस्त्यत्रापि रस वै सः रस होवायं लब्ध्वानन्दी भवति।”
विश्वनाथ“वाक्य रसात्मक काव्यम्।”
विश्वनाथ“विभावेनानुभावेन व्यक्तः संचारिणी तथा।रसतामेति रत्यादिः स्थायी भावः सचेतसाम्।।”
विश्वनाथसत्वोद्रेकादखण्डस्वप्रकाशानन्दचिन्मयः।वेद्यान्तर स्पर्शशून्यो ब्रह्मास्वाद सहोदरः।।लोकोत्तरचमत्कारप्राणः कैश्चित्प्रमातृभिः।स्वाकारवदभिन्नत्वेनायमास्वाद्यते रसः॥”
वामन“दीप्त रसत्वं कांति:।”
भोजराज“रसा:हि सुखदुःखरूपा।”
क्षेमेन्द्र“औचित्यं रससिद्धस्य स्थिरं काव्यस्य जीवितम्।”
रामचंद्र-गुणचंद्र“सुखदुःखात्मको रस: ।”
रस की परिभाषा

प्रमुख रस, स्थायीभाव, वर्ण एवं देवता

‘नाट्यशास्त्र’ में भरतमुनि ने रसों की संख्या आठ मानी है- श्रृंगार, हास्य, करुण, रौद्र, वीर, भयानक, वीभत्स, अद्भुत। दण्डी ने भी आठ रसों का उल्लेख किया है।
भरतमुनि ने वीर रस के तीन भेद माना है- युद्धवीर, दानवीर एवं धर्मवीर

प्रतिष्ठापकरसस्थायी भाववर्ण (रंग)देवता
भरतमुनिश्रृंगाररतिश्यामकामदेव/विष्णु
भरतमुनिहास्यहासश्वेतशिवगण/प्रमथ
भरतमुनिकरुणशोककपोतयम
भरतमुनिरौद्रक्रोधलाल / रक्तरूद्र
भरतमुनिवीरउत्साहगौर / हेममहेंद्र
भरतमुनिभयानकभयकृष्णकाल
भरतमुनिवीभत्सजुगुप्सानीलमहाकाल
भरतमुनिअद्भुतविस्मय या आश्चर्यपीतगंधर्व/ ब्रम्हा
उद्भटशांतनिर्वेदधवलश्री नारायण
विश्वनाथवात्सल्यवत्सलतापद्मगर्भ सदृशलोक मातायें
रूपगोस्वामीभक्तिईश्वर विषयक रति
रुद्रटप्रेयानस्नेह
प्रमुख रस, स्थायीभाव, वर्ण एवं देवता

रति के 3 भेद हैं- दाम्पत्य रति, वात्सल्य रति और भक्ति सम्बन्धी रति, इन्ही से क्रमशः श्रृंगार, वात्सल्य और भक्ति रस का निष्पत्ति हुआ है।

मम्मट ने शांत रस का स्थायीभाव निर्वेद को मानकर रसों की संख्या 9 कर दी।

अभिनव गुप्त के अनुसार रसों को संख्या नौ है। इन्होंने शांत रस का स्थायीभाव तन्मयता या तन्मयवाद को माना है।

विश्वनाथ ने ‘रति या वत्सल’ को स्थायीभाव मानकर ‘वात्सल्य’ नामक 10वें रस का प्रतिपादन किया। इन्होंने ही सर्वप्रथम रस को काव्य की आत्मा घोषित किया और रस के स्वरूप पर सविस्तार रूप से प्रकाश डाला। विश्वनाथ के अनुसार, जब मन में तमोगुण और रजोगुण दब जाते हैं और सत्त्वगुण का उद्रेक और प्राबल्य होता है, तभी रस की अनुभूति होती है।

रूपगोस्वामी ने ‘देव विषयक’ रति को स्थायीभाव मानकर ‘भक्ति रस’ नामक 11वें रस का प्रतिपादन किया। उन्होंने पाँच प्रकार की भक्ति के आधार पर पाँच प्रकार के रसों की कल्पना की और उन्हें शांत, दास्य (प्रीति), सख्य (प्रेयस), वात्सल्य एवं माधुर्य कहा है।

भोज ने प्रेयस, शांत, उदात्त एवं उद्धत नामक चार नवीन रसों की उद्भावना (कल्पना) कर रसों की संख्या 12 कर दी, जिनके स्थायी भाव क्रमशः स्नेह, धृति, तत्त्वाभिनिवेशिनी मति एवं गर्व हैं। उन्होंने शांत रस के पूर्व स्वीकृत स्थायी भाव शम को धृति का ही एक रूप माना है। आचार्य भोज ने वाङमय को तीन भागों (वक्रोक्ति, रसोक्ति एवं स्वभावोक्ति) में विभक्त कर रसोक्ति को साहित्य का सर्वोत्कृष्ट रूप माना है।

‘नाट्य दर्पण’ ग्रंथ रामचंद्र-गुणचंद्र की सम्मिलित कृति है, जिसमें लौल्य, स्नेह, व्यसन, सुख तथा दुःख नामक नवीन रसों की कल्पना की गयी है तथा क्षुत, तृष्णा, मैत्री, मुदिता, श्रद्धा, दया, उपेक्षा, रति, संतोष, क्षमा, मार्दव, आर्जव और दाक्षिण्य नामक नवीन संचारियों का वर्णन किया गया।

भानुदत्त ने, जिनका 2 रसशास्त्रीय ग्रंथ- ‘रसमंजरी’ और ‘रस तरंगिनी’ है, ‘मायारस’ नामक एक नवीन रस, ‘जृम्भा’ नामक नवीन सात्विक भाव एवं ‘छल’ नामक नवीन संचारी का वर्णन किया है।

भरतमुनि के अनुसार नाटक का मुख्य ध्येय रस निष्पत्ति है। उन्होंने “सैद्राच्च करुणो रसः” कहकर करुण रस की उत्पत्ति रौद्र रस से मानी है।

अलंकारवादी आचार्यभामह ने रस को ‘अलंकार्य’ न मानकर ‘अलंकार’ माना है। उन्होंने विभाव को ही रस माना है।

अलंकारवादी आचार्यरुद्रट ने रस को अलंकार की दासता से मुक्त कर उसे स्वतंत्र अस्तित्व प्रदान किया। ये पहले आचार्य हुए जो रीतिओं और वृतिओं के रासनुकूल प्रयोग पर बाल दिया। इन्होने शांत रस का स्थायी भाव ‘सम्यक ज्ञान’ को माना है।

श्रृंगार रस को ‘रसराज’ कहा जाता है। इसके अंतर्गत रुद्रट ने नायक-नायिका भेद का निरूपण कर रस विवेचन को नई दिशा दिया। उन्होंने इसके दो भेद किए हैं-

1. संयोग (संभोग) श्रृंगार, 2. वियोग (विप्रलम्भ) श्रृंगार।

रस सिद्धांत के सम्बंध में अभिनव भरत ‘तन्मयतावाद’ के प्रतिष्ठापक हैं।

रस को ध्वनि के साथ युक्त करने का श्रेय आनंदवर्द्धन हैं। उन्होंने काव्य की आत्मा ध्वनि स्वीकार कर ध्वनि का प्राण रस (रसध्वनि) को माना। उन्होंने श्रृंगार और शांत रसो को प्रमुखता दी। इन्होने ‘महाभारत’ में शांत रस को ही मुख्य रस माना है।

रुद्रभट्ट ने वृत्तियों को ‘रसावस्थानसूचक’ कहा है।

850 ई० से 1050 ई० के काल को रस-विवेचन का स्वर्णिम युग माना जाता है।

इसे भी पढ़ सकते हैं-
भारतीय काव्यशास्त्र के प्रमुख आचार्य एवं उनके ग्रंथ कालक्रमानुसार
साधारणीकरण सिद्धान्त
मूल रस | सुखात्मक और दुखात्मक रस | विरोधी रस
रस का स्वरूप और प्रमुख अंग
हिन्दी आचार्यों एवं समीक्षकों की रस विषयक दृष्टि
link

रस सूत्र के व्यख्याता आचार्य, उनके सिद्धान्त और दार्शनिक मत

रस के चार प्रमुख व्याख्याकार हैं- भट्ट लोल्लट, भट्ट शंकुक, भट्ट नायक और अभिनवगुप्त, जिन्होंने रस सिद्धान्त पर व्यापक रूप से अपना मत रखा है। भरत के सूत्र का सर्वप्रथम व्यख्याता भट्ट लोल्लट हैं।

आचार्यदर्शनसंयोग / सम्बन्धनिष्पत्तिसिद्धान्तरस की अवस्थिति
भट्ट लोल्लटमीमांसाउत्पाद्य-उत्पादकउत्पत्तिउत्पत्तिवाद(आरोपवाद)अनुकार्य (राम) में
भट्ट शंकुकन्यायअनुमाप्य-अनुमापकअनुमितिअनुमितिवादअनुकर्ता (नट) में
भट्ट नायकसांख्यभोज्य-भोजकभुक्तिभुक्ति (भोगवाद)प्रेक्षक (दर्शक) में
अभिनवगुप्तशैवव्यंग्य-व्यंजकअभिव्यक्तिअभिव्यक्ति वादसामाजिक (सहृदय) में
रस के व्याख्याकार

भटलोल्लट ने रस का भोक्ता वास्तविक रामादि एवं नट को माना है, रस की स्थिति मूल पात्रों में को माना है।

शंकुक ने रस-विवेचन में ‘चित्र तुरंग न्याय’ की संकल्पना की,  इससे सामाजिक नट में रस की अवस्थिति मान कर रस का अनुमान करते हैं।

भट्टनायक ने सर्वप्रथम रस को ब्रह्मानन्द सहोदर माना।

भट्टनायक ने सर्वप्रथम दर्शक (सामाजिक) की महत्ता को स्वीकार किया

भट्टनायक ने काव्य की तीन क्रियाएँ (व्यापार, शक्तियाँ) माना हैं-

1. अभिधा-  काव्यार्थ की प्रतीति, 2. भावकत्व-  साधारणीकरण, 3. भोजकत्व- रस का भोग

अभिनवगुप्त ने रस की सर्वांगीण वैज्ञानिक व्याख्या किया। उनके अनुसार स्थायी भाव सहदय या सामाजिक के हृदय में वासनारूप से (संस्कार के रूप में) पहले से ही (अव्यक्त रूप में) विद्यमान रहते है।

Previous articleकाव्य हेतु | काव्यशास्त्र | kavya hetu
Next articleरस का स्वरूप और प्रमुख अंग | ras ka swaroop

1 COMMENT

  1. B A 3rd sem ka guwahati university ka new cbcs ka bharatiya kavyashastr la short question chahiea

Comments are closed.