फोटोग्राफी के मूलभूत सिद्धांत

0
1054
photography-molabhot-siddhant
फोटोग्राफी के मूलभूत सिद्धांत

हर विधा की अपने कुछ सिद्धांत होते हैं, फोटोग्राफी भी इसका अपवाद नहीं है। इसके भी कई मूलभूत सिद्धांत हैं जिसे एक फोटोग्राफर को उच्च-गुणवत्ता वाली छवियां लेने के लिए जानना और समझना महत्वपूर्ण हैं।

1. रेखाएँ (Leading Lines)

रेखाएँ फोटोग्राफी का एक मूलभूत तत्व हैं, जिसे अंग्रेजी में leading lines कहा जाता है। छवि में रेखाओं का उपयोग मुख्य विषय की ओर दर्शकों की आँखों का मार्गदर्शन करने या गहराई और गति की भावना पैदा करने के लिए किया जाता है। क्योंकि दर्शकों की आंखें छवि में गहराई से रेखाओं का अनुसरण करती हैं। फोटोग्राफी में, एक छवि की संरचना को बढ़ाने और दिशा की भावना व्यक्त करने के लिए रेखाओं का प्रयोग होता है।

कई प्रकार की रेखाओं का उपयोग फोटोग्राफी में किया जाता है, जिनमें विकर्ण, क्षैतिज, ऊर्ध्वाधर और घुमावदार आदि रेखाएँ शामिल हैं। ये प्राकृतिक और मानव निर्मित दोनों वातावरणों में पाए जा सकते हैं, जैसे कि सड़कें, नदियाँ, रेल की पटरियाँ और वास्तु तत्व।

प्रमुख रेखाओं को प्रभावी ढंग से चित्रित करने के लिए, छवि की संरचना और फ्रेमिंग पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है। एक फोटोग्राफर गहराई और मूवमेंट की भावना पैदा करने के लिए अग्रणी रेखाओं के आकार और प्रभाव को बढ़ा-चढ़ाकर या न्यून कोण का उपयोग करने के लिए चौड़े-कोण लेंस का उपयोग करने जैसी तकनीकों का उपयोग करता है।

कुल मिलाकर, अग्रणी लाइनें फोटोग्राफी का एक महत्वपूर्ण तत्व हैं, वे दर्शकों की आंखों को मुख्य विषय की ओर निर्देशित कर सकती हैं, गहराई और गति की भावना पैदा कर सकती हैं और एक छवि की संरचना को बढ़ा सकती हैं। एक छवि में प्रमुख पंक्तियों का प्रभावी ढंग से उपयोग करके, एक फोटोग्राफर शक्तिशाली और आकर्षक चित्र बना सकता है जो एक संदेश संप्रेषित करता है या एक कहानी बताता है।

संक्षेप में एक छवि में लाइनों का प्रभावी ढंग से उपयोग करके, एक फोटोग्राफर दृश्य के माध्यम से दर्शक की आंखों का मार्गदर्शन करने का प्रयास करता है, क्योंकि रेखाओं का अनुसरण करते हुए दर्शकों की आँखें मुख्य सब्जेक्ट तक जाती हैं।

2. बनावट (Texture)

बनावट भी फोटोग्राफी का एक मूलभूत तत्व है, जिसे अंग्रेजी में Texture कहा जाता है। यह किसी वस्तु की सतह की गुणवत्ता को संदर्भित करता है, जैसे- खुरदुरा, चिकना, ऊबड़-खाबड़ या चमकदार। फोटोग्राफी में, बनावट दृश्य को रुचिकर बनाती है, गहराई और आयाम की भावना पैदा करती है। इसका उपयोग कंट्रास्ट बनाने और छवि के कुछ क्षेत्रों पर ध्यान आकर्षित करने के लिए भी किया जाता है।

फोटोग्राफी में टेक्सचर कई अलग-अलग रूपों में मिलती है, जिसमें प्राकृतिक बनावट जैसे- चट्टानें, पेड़ की छाल और रेत, साथ ही मानव निर्मित बनावट जैसे- ईंट की दीवारें और धातु की सतह शामिल हैं। बनावट को प्रभावी ढंग से चित्रित करने के लिए, प्रकाश व्यवस्था पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है। क्योंकि प्रकाश की दिशा और गुणवत्ता एक छवि में बनावट को कैसे प्रभावित करती है, इस पर बहुत प्रभाव डाल सकती है।

एक छवि में बनावट को बाहर लाने के लिए, एक फोटोग्राफर कई प्रकार की तकनीकों का उपयोग करता है, जैसे- पृष्ठभूमि को धुंधला करने के लिए क्षेत्र की उथली गहराई का उपयोग करना और बनावट को अग्रभूमि में अधिक प्रमुख बनाना, या छाया बनाने के लिए साइड लाइटिंग का उपयोग करना।

कुल मिलाकर, बनावट फोटोग्राफी का एक महत्वपूर्ण तत्व है, यह दृश्य रुचि जोड़ सकता है, गहराई और आयाम की भावना को ला सकता है और एक दृश्य को संदर्भ दे सकता है। एक छवि में बनावट का प्रभावी ढंग से उपयोग करके, एक फोटोग्राफर संदेश संप्रेषित करने वाला या कोई कहानी कहने वाला शक्तिशाली और आकर्षक चित्र बना सकता है।

3. पैटर्न (Patterns)

पैटर्न भी फोटोग्राफी का एक महत्वपूर्ण तत्व है। यह एक छवि में आकृतियों, रेखाओं या रंगों की पुनरावृत्ति को संदर्भित करता है। फोटोग्राफी में, पैटर्न लय और गति की भावना पैदा करते हैं और छवि में दृश्य को रुचिपूर्ण बनाते हैं। इसका उपयोग कंट्रास्ट बनाने और छवि के कुछ क्षेत्रों पर ध्यान आकर्षित करने के लिए भी किया जाता है।

फोटोग्राफी में पैटर्न कई अलग-अलग रूपों में पाए जाते हैं, जिनमें प्राकृतिक पैटर्न जैसे- पानी में लहरें या पेड़ पर पत्तियों द्वारा बनाए गए पैटर्न, साथ ही मानव निर्मित पैटर्न जैसे- शहर के दृश्य या सड़क की रेखाओं के दोहराए जाने वाले पैटर्न शामिल हैं। पैटर्न को प्रभावी ढंग से चित्रित करने के लिए, छवि की रचना और फ्रेमिंग पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है।

एक छवि में पैटर्न को उभारने के लिए फोटोग्राफर विभिन्न तकनीकों का उपयोग करता है, जैसे- पैटर्न की पुनरावृत्ति पर जोर देने के लिए एक सममित संरचना का उपयोग करना, या फोटोग्राफ में पैटर्न के आकार को बढ़ा-चढ़ाकर पेश करने के लिए न्यून कोण (Acute Angle) का उपयोग करना।

कुल मिलाकर, पैटर्न फोटोग्राफी का एक महत्वपूर्ण तत्व हैं, यह लय और गति की भावना पैदा करता है और एक छवि में दृश्य को रुचिकर बनाता है। किसी छवि में प्रभावी ढंग से पैटर्न का उपयोग करके कोई भी फोटोग्राफर शक्तिशाली और आकर्षक छवियां बना सकता है।

4. आकृति (Silhouette)

छाया आकृति फोटोग्राफी का एक मूलभूत तत्व है, जिसे अंग्रेजी में Silhouette कहा जाता है। यह एक ऐसे विषय की छवि को संदर्भित करता है जो एक हल्की पृष्ठभूमि के मुकाबले गहरा दिखाई देता है। फोटोग्राफी में छायाचित्रों का उपयोग रहस्य, नाटक और कंट्रास्ट की भावना पैदा करने के लिए किया जाता है।

किसी चमकीले प्रकाश स्रोत, जैसे सूर्य के सामने किसी विषय को शूट करके या फ्लैश या अन्य कृत्रिम प्रकाश स्रोत का उपयोग करके आकृति बनाए जा सकते हैं। एक आकृति बनाने के लिए, पृष्ठभूमि विषय की तुलना में काफी उज्ज्वल होनी चाहिए, और एक्सपोजर को विषय के बजाय पृष्ठभूमि के लिए सही ढंग से प्रदर्शित करने के लिए समायोजित किया जाना चाहिए।

चित्र, परिदृश्य और प्रकृति फोटोग्राफी सहित विभिन्न प्रकार की फोटोग्राफी शैलियों में आकृति का उपयोग किया जाता है। इसका उपयोग रहस्य और नाटकीय भावना पैदा करने, किसी विषय के आकार पर जोर देने और विपरीतता की भावना पैदा करने के लिए किया जाता है।

महत्वपूर्ण बात यह है कि सिल्हूट हमेशा अंधेरे नहीं होते हैं, उन्हें उज्ज्वल प्रकाश स्रोतों का उपयोग करके भी बनाया जाता है, जैसे कि सूरज के साथ विषय अच्छी तरह से उजागर होता है, लेकिन एक उज्ज्वल आकृति बनाने के लिए पृष्ठभूमि में कोई परिवर्तन नहीं किया जाता है।

सार रूप में, आकृति फोटोग्राफी का एक महत्वपूर्ण भाग है। यह रहस्य, नाटक और विपरीतता की भावना पैदा करता है। छवि में आकृति का प्रभावी ढंग से उपयोग शक्तिशाली और आकर्षक चित्र बनाने के लिए किया जाता है।

5. विस्तार (Space)

विस्तार फोटोग्राफी का एक मूलभूत तत्व है, जिसे अंग्रेजी में स्पेस कहते हैं। यह एक छवि में विषयों के आसपास, बीच और भीतर के क्षेत्र को संदर्भित करता है। फोटोग्राफी में, स्पेस का उपयोग गहराई की भावना पैदा करने और छवि के विषय पर ध्यान आकर्षित करने के लिए किया जाता है।

फोटोग्राफी में कई प्रकार के स्थान का उपयोग किया जा सकता है, जिनमें सकारात्मक स्थान, नकारात्मक स्थान और गहरा स्थान शामिल हैं। सकारात्मक स्थान छवि के मुख्य विषय द्वारा घेरे गए क्षेत्र को संदर्भित करता है। वहीं नकारात्मक स्थान (खाली स्थान) मुख्य विषय के आसपास के क्षेत्र को संदर्भित करता है। डीप स्पेस मुख्य विषय से परे के क्षेत्र को संदर्भित करता है, और इसका उपयोग किसी छवि में गहराई की भावना पैदा करने के लिए किया जाता है। Space को प्रभावी ढंग से चित्रित करने के लिए, छवि की रचना और फ्रेमिंग पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है।

कुल मिलाकर, स्पेस फोटोग्राफी का एक महत्वपूर्ण तत्व है, यह गहराई की भावना पैदा कर सकता है और छवि के विषय पर ध्यान आकर्षित कर सकता है। आकर्षक और शक्तिशाली फोटोग्राफ के लिए फोटोग्राफर को छवि में स्पेस का प्रभावी ढंग से उपयोग करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें-

फोटोग्राफी के इन मूलभूत सिद्धांतों के अलावा एक दिशा निर्देश भी है जो किसी फोटोग्राफ को लेने के लिए काफी महत्वपूर्ण है, उसे रूल ऑफ थर्ड्स कहते हैं-

रूल ऑफ थर्ड्स (Rule of Thirds)

रूल ऑफ थर्ड्स फोटोग्राफी में एक दिशानिर्देश है जो सुझाव देता है कि एक छवि को नौ समान भागों में- दो समान दूरी वाली क्षैतिज रेखाओं और दो समान दूरी वाली लंबवत रेखाओं द्वारा विभाजित किया जाना चाहिए। सिद्धांत यह है कि यदि छवि में मुख्य सब्जेक्ट को मध्य भाग की जगह ग्रिड लाइन या क्रॉस-पॉइंट के ऊपर या उसके आस-पास रहे, तो यह एक अधिक संतुलित और दिलचस्प फोटो का निर्माण करेगा। नीचे चित्र में 2 क्षैतिज और 2 खड़ी रेखाओं की मदद से 9 बराबर चौकोर खानों (आयतों या Rectangles) में विभाजित किया किया गया है।

Rule of Thirds के पीछे का विचार यह है कि मानव आँख इन रेखाओं के प्रतिच्छेदनों की ओर अधिक आकर्षित होती है, और इन काटन बिंदुओं में से किसी एक पर तस्वीर के विषय को रखने से वह अधिक गतिशील और आकर्षक लगती है।

“फोटोग्राफी में रुल ऑफ थर्ड्स मूलतः चित्रकला से लिया गया है। इसका इस्तेमाल चित्रकला के क्षेत्र में तब से किया जा रहा है जब फोटोग्राफी का जन्म भी नहीं हुआ था। चित्रकारों ने अपने अनुभव से यह पाया कि तस्वीर के मुख्य सब्जेक्ट को यदि फ्रेम के मध्य हिस्से से थोड़ा हटाकर दाएं, बाएं; ऊपर या नीचे (ऑफ-सेंटर) रखा जाए तो तस्वीर अधिक आकर्षक और सुगठित बनती है। जैसे, उगते सूरज को दर्शाने के लिए लिए उसे फ्रेम के ठीक बीच में न रख रखकर थोड़ा ऑफसेंटर यानी दाएं, बाएं; ऊपर या नीचे रखने से तस्वीर देखने में अधिक रोचक लगती है।”i

यह कोई ‘हार्ड एंड फास्ट’ रूल नहीं है बल्कि फोटो को अधिक आकर्षक और सुंदर बनाने के लिए एक दिशानिर्देश है। यह फ्रेम कंपोज करने के कई तरीकों में से एक तरीका है। हमेशा आवश्यक भी नहीं है कि सब्जेक्ट को इन बिंदुओं पर बिल्कुल संरेखित ही किया जाए। हालांकि, तिहाई के नियम का उपयोग करने से अधिक संतुलित और दृष्टिगत रूप से दिलचस्प फोटो बनाने में मदद मिलती है।

इन मूलभूत सिद्धांतों को ध्यान में रखते हुए कोई भी फोटोग्राफर सुंदर और आकर्षक तस्वीरें ले सकता है जो दृश्य का सटीक प्रतिनिधित्व करेंगे और वांछित संदेश या मनोदशा को व्यक्त करने में सक्षम होंगे।


FAQ:

Q. फोटोग्राफी में थर्ड का नियम क्या है?

Ans. तिहाई का नियम फोटोग्राफी में एक रचना दिशानिर्देश है जो छवि को लंबवत और क्षैतिज रूप से तिहाई में विभाजित करने और मुख्य विषय को इनमें से किसी एक रेखा के साथ या रेखाओं के चौराहे पर रखने का सुझाव देता है।

Q. फोटोग्राफी में लीडिंग लाइन्स क्या है?

Ans. फोटोग्राफी में अग्रणी रेखाएँ एक छवि के भीतर रेखाओं, आकृतियों या रूपों के उपयोग को संदर्भित करती हैं, जो दर्शकों की नजर को मुख्य विषय या रचना में रुचि बिंदु तक ले जाती हैं। लाइनें क्षैतिज, ऊर्ध्वाधर, विकर्ण या घुमावदार हो सकती हैं, और वे प्राकृतिक और मानव निर्मित दोनों रूपों में पाई जाती हैं। इनका उपयोग छवि के भीतर गहराई, परिप्रेक्ष्य और गति की भावना पैदा करने के लिए किया जाता है।

Q. फोटोग्राफी में टेक्सचर क्या है?

Ans. फोटोग्राफी में टेक्सचर (बनावट) किसी छवि के भीतर सतह या वस्तु की दृश्य और स्पर्श गुणवत्ता को संदर्भित करती है। फोटोग्राफी में, बनावट प्रकाश और छाया, क्षेत्र की गहराई, और विषय वस्तु की पसंद के उपयोग से बनाई जा सकती है। उदाहरण के लिए, एक पेड़ की छाल, एक जंग लगी धातु की सतह, या एक चट्टानी तटरेखा के क्लोज-अप की तस्वीर लेने से उन सतहों की बनावट सामने आ सकती है, और दर्शकों को उनके भौतिक गुणों का आभास हो सकता है।

Q. फोटोग्राफी में पैटर्न क्या है?

Ans. फोटोग्राफी में पैटर्न एक छवि के भीतर दृश्य तत्वों, जैसे- रेखाओं, आकृतियों, रूपों या रंगों की पुनरावृत्ति को संदर्भित करता है। पैटर्न प्राकृतिक और मानव निर्मित दोनों में पाए जाते हैं, जैसे- प्रकृति, वास्तुकला, वस्त्र और अमूर्त डिजाइन। यह एक छवि के भीतर लय और गति की भावना पैदा करता है।

Q. फोटोग्राफी में सिल्हूट क्या है?

Ans. फोटोग्राफी में सिल्हूट एक ऐसी छवि को संदर्भित करता है जिसमें कोई सब्जेक्ट बैकलिट होता है, जिसके परिणामस्वरूप उज्ज्वल पृष्ठभूमि के अपोजिट डार्क रूपरेखा बनती है। कैमरे और किसी उज्ज्वल प्रकाश स्रोत, जैसे कि सूर्य, दीपक, या खिड़की आदि के बीच सब्जेक्ट को रखकर फोटो लिए जाते हैं।

संदर्भ:

i. photographyhindi.com

Previous articleफोटो पत्रकार के गुण | Qualities of Photojournalist
Next articleफोटो पत्रकारिता के क्षेत्र एवं संभावनाएँ