स्पेशल इफेक्ट तकनीक | special effects

0
931
photography-special-effects
स्पेशल इफेक्ट तकनीक

स्पेशल इफेक्ट एक विजुअल तकनीक है जिसका प्रयोग फिल्म, टेलीविजन, वीडियो गेम और फोटोग्राफी आदि में दृश्य प्रभाव बनाने और बढ़ाने के लिए विभिन्न उपकरणों और तकनीकों की सहायता से किया जाता है। इनके विकास में स्पेशल इफेक्ट ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इसके प्रयोग से विजुअल का रोमांच बढ़ जाता है। Special effect को SFX, SPFX, F/X तथा FX भी कहा जाता है। इन उपकरणों और तकनीकों में कंप्यूटर जनित इमेजरी (CGI), मोशन कैप्चर, ग्रीन स्क्रीन तकनीक और भौतिक प्रभाव आदि शामिल है।

1. सीजीआई (Computer Generated Imagery)

सीजीआई सबसे व्यापक रूप से उपयोग की जाने वाली विशेष प्रभाव तकनीकों में से एक है। इसका उपयोग यथार्थवादी और सजीव दृश्य प्रभाव बनाने के लिए किया जाता है जिसे वास्तविक जीवन में कैप्चर करना संभव नहीं है। इसे पारंपरिक भौतिक प्रभावों या लाइव-एक्शन फुटेज के साथ हासिल करना मुश्किल या असंभव है। इसमें यथार्थवादी वातावरण, पात्रों से लेकर काल्पनिक जीवों और दुनिया तक कुछ भी बनाने के लिए किया जा सकता है। Computer Generated Imagery एक ऐसी तकनीक है जो यथार्थवादी छवियों और एनिमेशन उत्पन्न करने के लिए कंप्यूटर सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर का उपयोग करती है।

डिजिटल फिल्ममेकिंग चलन के बाद Special effect तकनीक में CGI का प्रयोग सबसे अधिक होने लगा। क्योंकि इससे फिल्मकार के हाँथ में अधिक कंट्रोल आ गए। दूसरी बात, कंप्यूटर से तैयार होने के कारण यह सुरक्षित भी है। CGI तकनीक से कम लागत में उच्च स्तर के आउटपुट मिलता है जिसकी वजह से भी CGI का प्रचलन बढ़ गया है।

इसका बड़े पैमाने पर फिल्मों, टीवी श्रृंखलाओं और विज्ञापनों में उपयोग किया जाता है, उदाहरण के लिए, स्टार वार्स, हैरी पॉटर और द लॉर्ड ऑफ द रिंग्स और वीडियो गेम उद्योग में।

कंपोज़िटिंग में भी CGI का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है, जो एक सहज अंतिम छवि बनाने के लिए लाइव-एक्शन फ़ुटेज को कंप्यूटर जनित इमेजरी के साथ संयोजित करने की प्रक्रिया है। इसे Adobe After Effects या Nuke जैसे कंपोज़िटिंग सॉफ़्टवेयर का उपयोग करके प्राप्त किया जाता है।

2. मोशन कैप्चर (motion capture)

मोशन कैप्चर को मोशन ट्रैकिंग (motion tracking) या मोकैप (mocap) के रूप में भी जाना जाता है। इस तकनीक का उपयोग अभिनेताओं और वस्तुओं की गति को रिकॉर्ड करने और डिजिटाइज करने के लिए किया जाता है। इसके बाद फिल्मों और वीडियो गेम आदि में संपादन के दौरान यथार्थवादी और सजीव एनीमेशन बनाने के लिए इसका उपयोग किया जाता है।

मोशन कैप्चर एक ऐसी तकनीक है जिसमें लाइव एक्टर्स के मूवमेंट को रिकॉर्ड किया जाता है और उस डेटा का उपयोग डिजिटल कैरेक्टर को एनिमेट करने के लिए किया जाता है। इस प्रक्रिया में आम तौर पर अभिनेता शामिल होते हैं जो सेंसर से बने विशेष सूट पहनते हैं जो उनके जोड़ों और अंगों के मूवमेंट को ट्रैक करते हैं। इन सेंसरों के डेटा को तब विशेष सॉफ़्टवेयर का उपयोग करके रिकॉर्ड और संपादित किया जाता है, जिसका उपयोग डिजिटल पात्रों या वस्तुओं को चेतन करने के लिए किया जाता है।

CGI तकनीक से भी कैरेक्टर बनाये जा सकते हैं परंतु रीयलिस्टिक एनीमेशन करने के लिए motion capture तकनीक का ही प्रयोग किया जाता है।

मोशन कैप्चर के प्रमुख लाभों में से एक इसकी अत्यधिक यथार्थवादी और प्राकृतिक गति बनाने की क्षमता है, खासकर जब यह मानव पात्रों की बात आती है। यह डिजिटल युगल या जीव बनाने के लिए भी एक उपयोगी उपकरण है, जिसका उपयोग कुछ दृश्यों में जीवित अभिनेताओं को बदलने के लिए किया जा सकता है।

इस तकनीक का उपयोग अवतार, द लॉर्ड ऑफ द रिंग्स और द हॉबिट जैसी कई फिल्मों और ग्रैंड थेफ्ट ऑटो वी, गॉड ऑफ वॉर और एसेसिन्स क्रीड जैसे वीडियो गेम में किया गया है।

3. ग्रीन स्क्रीन तकनीक (Green Screen Technique)

ग्रीन स्क्रीन को क्रोमा (chroma key) के रूप में भी जाना जाता है। यह एक ऐसी स्पेशल इफेक्ट तकनीक है जिसमें अभिनेताओं या सब्जेक्ट को हरे रंग की स्क्रीन के सामने फिल्माया जाता है और बाद में पोस्ट-प्रोडक्शन में एक अलग पृष्ठभूमि (छवि या वीडियो) के साथ बदल दिया जाता है। यह स्थान फिल्मांकन में अधिक लचीलेपन की अनुमति देता है और फंतासी या भविष्य के वातावरण के निर्माण को सक्षम बनाता है।

यह तकनीक फिल्म निर्माताओं को विभिन्न वातावरणों में अभिनेताओं का भ्रम पैदा करने या एक दृश्य में डिजिटल तत्वों को जोड़ने की अनुमति देती है जो फिल्मांकन के दौरान हासिल करना मुश्किल या असंभव होगा।

इस प्रक्रिया में आमतौर पर एक बड़े, ठोस रंग की पृष्ठभूमि, विशेषकर हरे या नीले रंग के सामने अभिनेताओं या सब्जेक्ट को फिल्माया जाता है।। इसे इसलिए चुना जाता है क्योंकि यह एक ऐसा रंग है जो आमतौर पर मानव त्वचा के रंग या कपड़ों में नहीं पाया जाता है। फिल्मांकन या फोटोग्राफी के बाद पृष्ठभूमि को विशेष सॉफ़्टवेयर का उपयोग करके पोस्ट-प्रोडक्शन में एक अलग छवि या वीडियो के साथ बदल दिया जाता है, जैसे कि एडोब आफ्टर इफेक्ट्स या न्यूक, जो पृष्ठभूमि के रंग को अलग कर सकता है और इसे वांछित छवि के साथ बदल सकता है।

हरे रंग की स्क्रीन का उपयोग विभिन्न तरीकों से किया जा सकता है, जिसमें पृष्ठभूमि, विशेष प्रभाव और यहां तक कि अन्य अभिनेता भी शामिल हैं। यह एक सहज अंतिम छवि बनाने के लिए कंप्यूटर जनित इमेजरी (CGI) के साथ लाइव-एक्शन फ़ुटेज की रचना करने का एक शक्तिशाली उपकरण भी है।

इस तकनीक का व्यापक रूप से फिल्मों, टीवी श्रृंखला और विज्ञापनों में उपयोग किया जाता है, उदाहरण के लिए, स्टार वार्स, हैरी पॉटर और द लॉर्ड ऑफ द रिंग्स आदि में।

4. भौतिक प्रभाव (physical effects)

भौतिक प्रभाव को व्यावहारिक प्रभाव (प्रैक्टिकल इफेक्ट्स) भी कहा जाता है। भौतिक प्रभावों का उपयोग यथार्थवादी और सजीव दृश्य प्रभाव बनाने के लिए किया जाता है जिसे वास्तविक जीवन में कैप्चर करना संभव नहीं है। इस स्पेशल इफेक्ट्स को कंप्यूटर जनित इमेजरी (CGI) के बजाय भौतिक सामग्रियों और तकनीकों का उपयोग करके बनाया जाता हैं। इन प्रभावों का उपयोग अक्सर फिल्म और टेलीविजन में यथार्थवादी, मूर्त तत्वों को बनाने के लिए किया जाता है जिसे CGI के साथ हासिल करना मुश्किल या असंभव है। भौतिक प्रभावों के कुछ उदाहरण निम्नलिखित हैं:

(i) लघु मॉडल (Miniature models): ये वस्तुओं या वातावरण के छोटे पैमाने वाले मॉडल हैं, जैसे भवन, वाहन या भू-दृश्य। जिनका उपयोग बहुत बड़ी सेटिंग का भ्रम पैदा करने के लिए किया जाता है।

(ii) आतिशबाज़ी बनाने की विद्या (Pyrotechnics): यह भी स्पेशल इफेक्ट्स है जिसमें आग और विस्फोटकों का उपयोग किया जाता है, जैसे विस्फोट, आग के गोले और धुआं।

(iii) प्रोस्थेटिक मेकअप (Prosthetic makeup): इसके अंतर्गत प्रोस्थेटिक मेकअप भी आता है, इसमें कृत्रिम उपकरणों (जैसे मास्क), केमिकल और मैटेरियल द्वारा सब्जेक्ट का मेकअप करके कैरेक्टर बनाये जाते हैं। इसका उपयोग सब्जेक्ट या अभिनेताओं की उपस्थिति को बदलने और विभिन्न पात्रों या प्राणियों का भ्रम (illusion) पैदा करने के लिए किया जाता है।

(iv) एनिमेट्रोनिक्स (Animatronics): इसके द्वारा पात्रों या प्राणियों में यथार्थवादी मोवमेंट को बनाने के लिए रोबोटिक उपकरणों का उपयोग किया जाता है।

(v) मैट पेंटिंग (Matte painting): यह एक ऐसी तकनीक है जिसमें एक सपाट सतह पर विस्तृत पेंटिंग बनाया जाता है फिर उसे एक बड़े वातावरण का भ्रम (illusion) पैदा करने के लिए एक सेट या पृष्ठभूमि पर प्रोजेक्ट किया जाता है।

(vi) कठपुतली (Puppetry): इस तकनीक द्वारा पात्रों या प्राणियों में गति का भ्रम पैदा करने के लिए हाथ से या यांत्रिक साधनों से नियंत्रित कठपुतलियों का उपयोग किया जाता है।

(vii) भौतिक विशेष प्रभाव यांत्रिकी (Physical special effects mechanics): इसके द्वारा बारिश, हवा, बर्फ, कोहरे आदि जैसे यथार्थवादी मूवमेंट को बनाने के लिए यांत्रिक उपकरणों का उपयोग किया जाता हैं।

फिल्म निर्माताओं द्वारा अक्सर भौतिक प्रभावों को प्राथमिकता दी जाती है क्योंकि वे यथार्थवाद और मूर्त उपस्थिति की भावना पैदा करते हैं, उन्हें नियंत्रित करना भी आसान होता है। लेकिन इसमें CGI इफेक्ट की तुलना में अधिक लागत लगती है।

5. 3डी मॉडलिंग और एनीमेशन (3D modeling and animation):

इस तकनीक में किसी वस्तु या चरित्र का 3डी डिजिटल मॉडल बनाना और यथार्थवादी आंदोलनों और इंटरैक्शन बनाने के लिए इसे एनिमेट करना शामिल है। आमतौर पर इसका प्रयोग फिल्म, वीडियो गेम तथा अन्य माध्यमों में डिजिटल वातावरण, पात्रों और वस्तुओं को बनाने के लिए किया जाता है, जो अत्यधिक विस्तृत और यथार्थवादी होते हैं।

3डी मॉडलिंग की प्रक्रिया में ऑटोडेस्क माया (Autodesk Maya) या ब्लेंडर (Blender) जैसे विशेष सॉफ्टवेयर का उपयोग करके किसी वस्तु या चरित्र का डिजिटल प्रतिनिधित्व बनाया जाता है। मॉडल को बुनियादी ज्यामितीय आकृतियों और विस्तृत बनावट के संयोजन का उपयोग करके बनाया जाता है, और विभिन्न रूपों और आकृतियों की एक विस्तृत श्रृंखला बनाने के लिए हेरफेर और समायोजित किया जाता है।

मॉडल बन जाने के बाद, इसे विभिन्न तकनीकों का उपयोग करके एनिमेटेड किया जाता है, जिसमें कीफ़्रेम एनीमेशन, उलटा कीनेमेटीक्स और मोशन कैप्चर शामिल हैं। यह मॉडल को चलने, दौड़ने और अन्य क्रियाओं जैसे- यथार्थवादी मूवमेंट और इंटरैक्शन देने की अनुमति देता है।

फीचर फिल्मों, वीडियो गेम, विज्ञापनों और आभासी वास्तविकता के अनुभवों में 3डी मॉडलिंग और एनीमेशन का बड़े पैमाने पर उपयोग किया जाता है। इसका उपयोग वास्तुकला, उत्पाद डिजाइन और शिक्षा जैसे कई अन्य उद्योगों में भी किया जाता है। 3डी मॉडलिंग और एनीमेशन का उपयोग कुछ फिल्मों में बड़े पैमाने पर, जैसे- अवतार, जुरासिक पार्क और द लायन किंग।

कुल मिलाकर, विशेष प्रभाव प्रौद्योगिकी ने पिछले कुछ वर्षों में एक लंबा सफर तय किया है और इसने फिल्म, टेलीविजन और फोटोग्राफी में दृश्य प्रभावों के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इसने दृश्य प्रभावों को बनाना और बढ़ाना संभव बना दिया है जिसे वास्तविक जीवन में कैप्चर करना संभव नहीं है, और यह काल्पनिक या भविष्य के वातावरण के निर्माण में अधिक लचीलेपन की अनुमति दी है।

अधिक यथार्थवादी और जटिल दृश्य प्रभावों का फिल्मांकन करने के लिए नई तकनीकों और उपकरणों को लगातार विकसित किया जा रहा है साथ में स्पेशल इफ़ेइफेक्ट का भी विकास जारी है।

Previous articleफोटो संपादन तकनीक | photo editing techniques
Next articleशॉट्स के प्रकार | types of shots