फोटो संपादन तकनीक | photo editing techniques

0
2095
photo-editing-techniques
फोटोग्राफी संपादन तकनीक

फोटोग्राफी में शटर बटन दबाने के बाद इमेज बनाने की प्रक्रिया समाप्त नहीं हो जाती है। एडिट से पहले ली गई फोटो एक रा मैटेरियल होता है। फोटोग्राफी में सिर्फ फोटोशूट ही काफी नहीं होता है। सबसे महत्वपूर्ण होता है अंतिम परिणाम(end result) अर्थात जब फोटो फाइनल बन कर तैयार हो जाती है। फोटोग्राफी के बाद फोटो एडिटिंग करना महत्वपूर्ण होता है, खासकर प्रोफेशनल फोटोग्राफी में। यदि फोटोग्राफी के बाद फोटो एडिटिंग भी ठीक से किया जाए तो फोटो में जान आ जाती है। फोटो शूट में जो कमियाँ रह जाती हैं उसे फोटो एडिटिंग के माध्यम से दूर कर फोटो को जीवंत बनाया जाता है। फोटोग्राफी में पर्सनली या प्रोफेशनली इस्तेमाल के लिए फोटो एडिटिंग सीखना ही पड़ता है, बिना इसकी जानकारी के अच्छा फोटोग्राफर नहीं बना जा सकता।

फोटो संपादन का महत्व

(Importance Of Photo Editing)

तस्वीरों में थोड़ा-बहुत बदलाव करने की जरूरत हर समय महसूस होती है, क्योंकि जैसा हम चाहते हैं या जो कुछ भी होना चाहिए, उन्हें वैसा ही बना सकें। तस्वीर को अपने लक्ष्य के अनुरूप बनाने के लिए फोटो संपादन की आवश्यकता बनी रहती है। फोटो संपादन कई कारणों में महत्वपूर्ण है:

तस्वीरों में थोड़ा-बहुत बदलाव करने की जरूरत हर समय महसूस होती है, क्योंकि जैसा हम चाहते हैं या जो कुछ भी होना चाहिए, उन्हें वैसा ही बना सकें। तस्वीर को अपने लक्ष्य के अनुरूप बनाने के लिए फोटो संपादन की आवश्यकता बनी रहती है। फोटो संपादन कई कारणों में महत्वपूर्ण है:

1. छवि की दृश्य अपील को बढ़ाना: रंग, चमक और कंट्रास्ट को समायोजित करके, दोषों और अन्य खामियों को दूर करके, या रचनात्मक फिल्टर और प्रभाव जोड़कर, फोटो संपादन छवि को अधिक आकर्षक और जीवंत बनाने में मदद करता है।

2. संदेश या कहानी का संप्रेषण करना: टेक्स्ट और ग्राफिक्स जोड़कर, या एक छवि को क्रॉप करके और उसका आकार बदलकर, फोटो संपादन एक संदेश देने या कहानी को अधिक प्रभावी ढंग से बताने में मदद कर सकता है।

3. छवि को उसके इच्छित उद्देश्य के लिए उपयुक्त बनाना: चाहे छवि का उपयोग किसी वेबसाइट, ब्रोशर, सोशल मीडिया पोस्ट या प्रिंट के लिए किया जाना हो, फोटो संपादन यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि छवि उचित आकार, रिज़ॉल्यूशन और गुणवत्ता इच्छित उपयोग के लायक है नहीं।

4. समय और प्रयास की बचत: महंगे उपकरण या डार्करूम की आवश्यकता के बिना फोटो संपादन जल्दी और आसानी से एक छवि में समायोजन करने की अनुमति देकर समय और प्रयास को बचाता है।

5. व्यावसायिकता और गुणवत्ता: फोटो एडिटिंग सॉफ्टवेयर छवि को अंतिम स्पर्श (फाइनल टच) देता है ताकि यह अधिक परिष्कृत, पेशेवर और उच्च गुणवत्ता वाली दिखे।

कुल मिलाकर, फोटो संपादन एक छवि की दृश्य अपील, प्रभावशीलता और व्यावसायिकता को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है, जिससे यह अपने इच्छित उद्देश्य और दर्शकों के लिए अधिक उपयुक्त हो जाता है।

फोटो संपादन सॉफ्टवेयर (photo editing software)

फोटो एडिटिंग के लिए कई वर्तमान में कई सॉफ्टवेयर के विकल्प उपलब्ध हैं, उनमें से किसी एक का प्रयोग किया जा सकता है। कुछ सबसे लोकप्रिय फोटो एडिटिंग सॉफ्टवेयर में शामिल हैं:

1. एडोब फोटोशॉप सीसी (Adobe Photoshop CC)

एडोब फोटोशॉप सीसी (क्रिएटिव क्लाउड) Adobe Photoshop का नवीनतम संस्करण है। यह एक सब्सक्रिप्शन-आधारित सॉफ़्टवेयर है जो Adobe की क्रिएटिव क्लाउड सेवा के माध्यम से उपलब्ध है। यह पेशेवर-श्रेणी का फोटो एडिटिंग सॉफ्टवेयर है जो छवियों को संपादित करने और परिवर्तन करने के लिए कई प्रकार की सुविधाएँ और उपकरण प्रदान करता है। अधिकतर पेशेवर लोग इसे ही इस्तेमाल करते हैं। इस Editing Software में फीचर की कोई कमी नहीं है, इसमें फोटो या ग्राफिक को मनमाफिक एडिट किया जा सकता है। चाहे फोटो को कई लेयर में या 3D मॉडल में एडिट एडिट करना हो, ड्राइंग, फिल्टर जैसे सभी एडवांस फीचर के लिए यह सबसे बढ़िया फोटोशॉप है। एक बार सीखने के बाद कोई भी ग्राफिक डिजाइन का मास्टर हो जाएगा।

2. कोरल पेंटशॉप प्रो (Corel PaintShop Pro)

कोरल पेंटशॉप प्रो एक बेहतरीन फोटो एडिटिंग सॉफ्टवेयर है जो एडोब फोटोशॉप जैसी कई सुविधाएं प्रदान करता है, लेकिन अधिक किफायती मूल्य और समान सुविधाओं के साथ। इसका फीचर इतना दमदार है कि इसे प्रोफेशनली भी इस्तेमाल किया जाता है। इसमें रेड आई रिमूवल, मेकओवर टूल, चिकनी झुर्रियां, व्हाइट वैलेंस आदि फीचर उपलब्ध हैं। यह उन लोगों के लिए एक बढ़िया विकल्प है, जो अधिक किफायती मूल्य पर फोटोशॉप जैसी कई सुविधाएँ और अधिक सुव्यवस्थित और उपयोगकर्ता के अनुकूल इंटरफेस चाहते हैं। Corel PaintShop Pro अपने यूजर इंटरफेस के लिए जाना जाता है, क्योंकि यह काफी यूजर फ्रेंडली है।

3. साइबरलिंक फोटोडायरेक्टर (CyberLink PhotoDirector)

साइबरलिंक फोटोडायरेक्टर एक फोटो एडिटिंग सॉफ्टवेयर है जो फोटो को संपादित करने और व्यवस्थित करने के लिए कई प्रकार की सुविधाएँ और उपकरण प्रदान करता है। कोरल पेंटशॉप प्रो की तरह इसका भी यूजर इंटरफ़ेस बहुत ही अच्छा है। यह 360-डिग्री फोटो संपादित करने की अनुमति देता है। मूल फ़ाइल में कोई बदलाव किए बिना यह छवियों में समायोजन करने की अनुमति देता है। यह उपयोगकर्ता के अनुकूल और नेविगेट करने में आसान भी है। CyberLink PhotoDirector सॉफ्टवेयर अपने अच्छे प्रदर्शन और गति के लिए भी जाना जाता है।

4. एडोब लाइटरूम (Adobe Lightroom)

यह भी एडोब का लाइट वर्जन सॉफ़्टवेयर है। एक अधिक सुव्यवस्थित सॉफ़्टवेयर जो विशेष रूप से बड़ी संख्या में फोटो संपादित करने और व्यवस्थित करने में सक्षम है। इसमें काफी एडवांस टूल्स और फिल्टर उपलब्ध हैं। लाइटरूम फोटोग्राफ़रों के लिए एक बढ़िया विकल्प है, ख़ासकर उनके लिए जिन्हें बड़ी संख्या में फोटो को जल्दी और कुशलता से संपादित करने की आवश्यकता होती है। Adobe Lightroom उन लोगों के लिए भी काफी अच्छा है जो अपनी तस्वीरों को व्यापक तरीके से व्यवस्थित और सूचीबद्ध करना चाहते हैं। यह एडोब क्रिएटिव क्लाउड प्लान के रूप में उपलब्ध है।

5. एफिनिटी फोटो (Affinity Photo)

एफिनिटी फोटो, सेरिफ लैब्स द्वारा विकसित एक फोटो संपादन सॉफ्टवेयर है, जो छवियों को संपादित करने और परिवर्तित करने के लिए सुविधाओं और टूल प्रदान करता है। यह एडोब फोटोशॉप का एक बेहतरीन विकल्प है और अपने उच्च प्रदर्शन, स्थिरता और कम लागत के लिए जाना जाता है। यह विंडोज, मैकओएस और आईपैड आदि के लिए उपलब्ध है। Layers and masks, RAW संपादन, लाइव फिल्टर, समायोजन, रीटचिंग और हीलिंग टूल्स जैसे एडवांस फीचर उपलब्ध हैं।

ये सभी सॉफ्टवेयर फोटो संपादन के लिहाज से बेजोड़ हैं, सबकी अपनी-अपनी विशिष्टता और उपयोग है। दरअसल सबसे अच्छा सॉफ्टवेयर फोटो संपादन के साथ आपकी विशिष्ट आवश्यकताओं और अनुभव के स्तर पर निर्भर करता है। इनमें से किसी भी photo Editing software को सीखकर एक प्रोफेसनल फोटोग्राफी की जा सकती है।

फोटोशॉप में फोटो संपादन तकनीक

(Photo editing techniques in Photoshop)

एक फोटोग्राफर के लिए, छवि संपादन महत्वपूर्ण है; यह एक साधारण तस्वीर को असाधारण में बदल सकता है। फोटो एडिटिंग सॉफ्टवेयर का उपयोग करके डिजिटल इमेज को इनक्रीज करने, रीटच करने या मैनिपुलेट करने की प्रक्रिया है। फोटो संपादन (इमेज एडिटिंग) सॉफ्टवेयर या समर्पित फोटो एडिटिंग ऐप्स का उपयोग करके किया जा सकता है। किए जाने वाले कुछ सामान्य कार्यों में शामिल हैं:

1. फोटो क्रॉपिंग (Image Cropping)

इमेज क्रॉपिंग डिजिटल इमेज से अवांछित क्षेत्रों को हटाने की प्रक्रिया है। यह इमेज एडिटिंग सॉफ़्टवेयर का उपयोग करके मैन्युअल रूप से किया जा सकता है, या स्वचालित रूप से इमेज प्रोसेसिंग एल्गोरिदम का उपयोग करके किया जा सकता है। क्रॉपिंग का उपयोग अक्सर किसी छवि के अवांछित हिस्सों को हटाने के लिए किया जाता है, जैसे कि पृष्ठभूमि या मुख्य विषय के आसपास अतिरिक्त स्थान, छवि के महत्वपूर्ण हिस्सों पर ध्यान केंद्रित करने या किसी विशिष्ट पहलू अनुपात में छवि का आकार बदलने के लिए।

2. आकार बदलना (resizing)

इसे किसी छवि की संरचना, पहलू या अनुपात को बदलने के लिए किया जा सकता है। यह फोटो संपादन का अहम और आसान भाग है। किसी छवि का आकार बदलने का अर्थ है किसी छवि के आयामों को बदलना। इससे फोटो के आकार को कम या बढ़ाया जा सकता है। यह इमेज एडिटिंग सॉफ्टवेयर या प्रोग्राम जैसे फोटोशॉप, जीआईएमपी, या ऑनलाइन इमेज रीसाइजिंग टूल्स का उपयोग करके किया जा सकता है। छवि की चौड़ाई और ऊंचाई को समायोजित करके या रिज़ॉल्यूशन को बदलकर यह प्रक्रिया पूरी की जा सकती है। आकार बदलने के दौरान छवि विरूपित न हो, इसके लिए को रोकने के लिए अनुपात पर विचार करना जरूरी है।

3. रीटचिंग (Retouching)

इमेज रीटचिंग, डिजिटल इमेज के स्वरूप को बेहतर बनाने के लिए उसमें बदलाव करने की प्रक्रिया है। इसमें दाग-धब्बों को हटाना, त्वचा को चिकना करना, आँखों को चमकाना और रंग और कंट्रास्ट को समायोजित करना शामिल हो सकता है। रीटचिंग का उपयोग किसी छवि में किसी वस्तु या व्यक्ति के आकार को बदलने या पृष्ठभूमि से अवांछित तत्वों को हटाने के लिए भी किया जा सकता है। इमेज एडिटिंग सॉफ़्टवेयर का उपयोग करके या स्वचालित रूप से इमेज प्रोसेसिंग एल्गोरिदम का उपयोग करके रीटचिंग मैन्युअल रूप से की जा सकती है। इसका उपयोग अक्सर फोटोग्राफी, फैशन, सौंदर्य और विज्ञापन में एक विशिष्ट सौंदर्य प्राप्त करने या अधिक पॉलिश अंतिम छवि बनाने के लिए किया जाता है।

4. टेक्स्ट और ग्राफिक्स जोड़ना (text and graphics)

इसका उपयोग इमेज में कैप्शन, वॉटरमार्क या अन्य टेक्स्ट और ग्राफिक्स जोड़ने के लिए किया जाता है। छवियों में टेक्स्ट और ग्राफिक्स जोड़ना मौजूदा छवि के शीर्ष पर टेक्स्ट, आकृतियों और अन्य ग्राफिक्स को ओवरलेइंग करने की एक प्रक्रिया है। यह छवि संपादन सॉफ़्टवेयर या ग्राफिक डिज़ाइन सॉफ़्टवेयर का उपयोग करके किया जा सकता है। इमेज में टेक्स्ट और ग्राफिक्स जोड़ने की प्रक्रिया को ‘इमेज कंपोज़िंग’ या ‘इमेज मैनीपुलेशन’ के रूप में भी जाना जाता है। इससे टेक्स्ट और ग्राफिक्स के फ़ॉन्ट, आकार, रंग, स्थिति और पारदर्शिता, रोटेशन और लेयरिंग जैसे प्रभावों के लिए समायोजित किया जा सकता है। यह आकर्षक दृश्य, इन्फोग्राफिक्स और ब्रोशर बनाने के लिए विपणन, सोशल मीडिया और विज्ञापन में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।

5. फिल्टर और प्रभाव लागू करना (filters and effects)

इसका उपयोग किसी छवि में रचनात्मक स्पर्श जोड़ने के लिए किया जा सकता है। यह पूर्व-निर्धारित प्रभावों या समायोजनों को लागू करके छवि के स्वरूप को बदलने की प्रक्रिया है। जिसे इमेज एडिटिंग सॉफ्टवेयर या समर्पित फोटो एडिटिंग ऐप्स का उपयोग करके किया जा सकता है। फोटोग्राफी में किसी छवि की समग्र सौंदर्य अपील को बढ़ाने के लिए छवियों पर फिल्टर और प्रभाव लागू करना एक आम बात है। फिल्टर और प्रभाव का उपयोग किसी छवि के समग्र मूड को बदलने, दृश्य रुचि जोड़ने या कुछ मुद्दों को ठीक करने के लिए किया जा सकता है। छवियों पर लागू किए जा सकने वाले फिल्टर और प्रभावों के कुछ उदाहरणों में शामिल हैं: रंग समायोजन (जैसे- संतृप्ति, चमक, या कंट्रास्ट समायोजित करना), विशेष प्रभाव (जैसे- धुंधलापन, विगनेटिंग या विकृति जोड़ना), कलात्मक फिल्टर (उदाहरण के लिए एक छवि को काले और सफेद में परिवर्तित करना), सौंदर्य और त्वचा स्मूथ वाले फिल्टर।

6. रंग समायोजन (Color adjustments)

छवि संपादन में रंग समायोजन वांछित प्रभाव प्राप्त करने के लिए छवि के रंग गुणों को संशोधित करने की प्रक्रिया को संदर्भित करता है। रंग समायोजन का उपयोग रंग की समस्याओं को ठीक करने, छवि के समग्र रूप को बढ़ाने या एक विशिष्ट दृश्य शैली बनाने के लिए किया जा सकता है। इसके माध्यम से किसी छवि के समग्र रंग को बदलने, छवि में विशिष्ट रंगों को बदलने, रंग संतुलन और रंगों की तीव्रता को बदला जा सकता है।

7. कंट्रास्ट और ब्राइटनेस एडजस्ट करना (contrast and brightness)

एक छवि के कंट्रास्ट और ब्राइटनेस को समायोजित करना दरअसल वांछित प्रभाव प्राप्त करने के लिए एक छवि में हल्का और गहरा (light and dark) के स्तर को संशोधित करने की प्रक्रिया है।

(i) कंट्रास्ट समायोजन: यह छवि के सबसे हल्के और सबसे गहरे क्षेत्रों के बीच ब्राइटनेस में अंतर को समायोजित करने की प्रक्रिया है। कंट्रास्ट बढ़ाने से छवि अधिक गतिशील और परिभाषित दिखाई देगी, जबकि कंट्रास्ट कम करने से छवि सपाट और कम स्पष्ट दिखाई देगी।

(ii) ब्राइटनेस एडजस्टमेंट: यह एक इमेज की संपूर्ण लाइटनेस या डार्कनेस को एडजस्ट करने की प्रक्रिया है। ब्राइटनेस बढ़ाने से छवि हल्की दिखाई देगी, जबकि ब्राइटनेस कम करने से छवि गहरी दिखाई देगी।

इन समायोजनों को अलग-अलग या एक साथ में लागू किया जा सकता है, और प्रकाश संबंधी समस्याओं को ठीक करने, छवि के समग्र स्वरूप को बढ़ाने, या एक विशिष्ट दृश्य शैली बनाने के लिए उपयोग किया जा सकता है। वे छवि संपादन प्रक्रिया में एक महत्वपूर्ण कदम हैं, विशेष रूप से पेशेवर फोटोग्राफी और डिजिटल कला में, जहां सही ब्राइटनेस और कंट्रास्ट स्तर अंतिम छवि में बड़ा अंतर ला सकते हैं।

8. पृष्ठभूमि को बदलना (Changing background)

यह छवि की वर्तमान पृष्ठभूमि को एक नई पृष्ठभूमि से बदलने की प्रक्रिया है। इस प्रक्रिया में आमतौर पर छवि के विषय का चयन करना और उसे पृष्ठभूमि से अलग करना, फिर पृष्ठभूमि को एक नई छवि या रंग से बदलना शामिल है। इस प्रक्रिया में छवि के विषय को काटकर और इसे एक नई पृष्ठभूमि पर चिपकाकर या लासो, जादू की छड़ी, या मास्किंग टूल जैसे उपकरणों का उपयोग करके मैन्युअल रूप से किया जाता है। इस तकनीक का उपयोग विशेष रूप से चित्र और उत्पाद फोटोग्राफी में किया जाता है, किसी छवि की पृष्ठभूमि को अधिक उपयुक्त या दृष्टिगत रूप से आकर्षक पृष्ठभूमि में बदलने के लिए। नई रचनाओं को बनाने और छवि में दृश्य रुचि जोड़ने के लिए इसका उपयोग विज्ञापन और ग्राफिक डिज़ाइन में भी किया जाता है। छवि संपादन प्रक्रिया में यह एक महत्वपूर्ण तकनीक है, क्योंकि यह आपको एक छवि के समग्र रूप और अनुभव को बदलने या एक विशिष्ट दृश्य शैली बनाने की अनुमति देती है।

9. छाया बनाना (Creating Shadows)

यह छवि को गहराई, आयाम और यथार्थवाद की भावना देने के लिए किया जाता है, विशेष रूप से उन छवियों के लिए जो डिजिटल रूप से बनाई या बनाई गई हैं। किसी छवि में विशिष्ट मनोदशा या वातावरण बनाने के लिए भी छाया का उपयोग किया जा सकता है। उपयोग किए जा रहे सॉफ़्टवेयर के आधार पर छाया बनाने की प्रक्रिया भिन्न हो सकती है, लेकिन आम तौर पर छवि में छाया परत जोड़ने के लिए लेयर मास्क, ब्रश और ब्लेंडिंग मोड जैसे टूल का उपयोग करना शामिल होता है। छाया को छवि के विशिष्ट क्षेत्रों में जोड़ा जा सकता है, जैसे कि कोई वस्तु या व्यक्ति, छवि को गहराई और यथार्थवाद की भावना देने के लिए, और छवि को अधिक त्रि-आयामी (3D) दिखाने के लिए। छाया को उसके कोण, तीव्रता, आकार और रंग के लिए समायोजित किया जा सकता है।

10. शार्पनिंग एवं ब्लर (Sharpening & Blur)

फोटोग्राफी करते वक्त कई बार कैमरा या विषय वस्तु हिल जाती है या जल्दबाजी में विषय वस्तु ठीक से फोकस नहीं होता। जिसकी वजह से फोटो की शार्पनैस बिगड़ जाती है, वह हिली हुई या धुंधली दिखती है। फोटो की इस कमी को कुछ हद तक फोटो एडीटिंग साफ्टवेयर के शार्पनिंग टूल से ठीक किया जाता है। इसके प्रयोग से आउट आफ फोकस फोटो कुछ बेहतर हो जाती हैं। कभी-कभी विशेष प्रभाव के लिए फोटो को धुंधला या साफ्ट करने की जरूरत होती है। इसके लिए भी फोटो एडीटिंग साफ्टवेयर में ब्लर टूल का प्रयोग किया जाता है।

11. फोटो को स्कैच में बदलना (sketch)

कभी-कभार विशेष प्रभाव के लिए फोटो को रेखाचित्र की तरह दिखाने की जरूरत होती है। इसके लिए फोटो एडीटिंग साफ्टवेयर के स्कैच टूल का इस्तेमाल किया जाता है। इससे फोटो में रेखाचित्र का प्रभाव आ जाता है। 

12. आर्टिस्टिक टूल का प्रयोग (Artistic Tool)

फोटोशाप में उपलब्ध ये आर्टिस्टिक टूल साधारण फोटो को वाटर कलर पेन्टिंग, आयल या पेस्टल कलर पेन्टिग की तरह बना देते हैं। इससे विशेष प्रभाव उत्पन्न होता है। क्रिएटिव फोटो एडिटिंग में इस तरह के प्रभावों के लिए कई तरह के प्रभाव उत्पन्न करने वाले टूल होते हैं। जिसका उपयोग करके साधारण फोटो को अधिक प्रभावकारी बनाया जा सकता है।

13. आयोजन और सूचीकरण (Organizing and cataloging)

इसका उपयोग मेटाडेटा जैसे कीवर्ड, टैग, रेटिंग और flags के आधार पर कुशल तरीके से डिजिटल छवियों को क्रमबद्ध और व्यवस्थित करने के लिए किया जा सकता है। छवियों को व्यवस्थित और सूचीबद्ध करने का लक्ष्य विशिष्ट छवियों को ढूंढना और उन तक पहुंचना और संग्रह में छवियों को ट्रैक करना आसान बनाना है। छवियों को व्यवस्थित करने और सूचीबद्ध करने की प्रक्रिया में फोल्डर और सबफोल्डर बनाना, रेटिंग और लेबलिंग आदि करना शामिल है।

विशेष रूप से पेशेवर फोटोग्राफ़रों और डिजिटल कलाकारों के लिए डिजिटल छवियों के एक बड़े संग्रह के प्रबंधन में छवियों को व्यवस्थित और सूचीबद्ध करना एक महत्वपूर्ण कदम है, क्योंकि इससे विशिष्ट छवियों को ढूंढना और उन तक पहुंचना और आपके संग्रह में छवियों का ट्रैक रखना आसान हो जाता है। यह छवियों के साथ काम करते समय आपको समय बचाने और अधिक कुशल होने में भी मदद करता है।

निष्कर्ष रूप में इमेज एडिटिंग का उपयोग करने से फोटोग्राफर का दायरा और कौशल का विस्तार होगा; एक साधारण छवि को विशेष महसूस कराने के लिए किए जा सकने वाले परिवर्तनों की कोई सीमा नहीं है। उस छवि में जीवन, रंग, कंट्रास्ट और सुंदरता ला सकते हैं, जिसमें कोई नहीं था। यही एक फोटोग्राफर के रूप में सफल बनाता है। संपादन प्रक्रिया उतनी आसान नहीं है, लेकिन यह फोटग्राफी के लिए अनिवार्य है। चाहे कोई पेशेवर हो या शौकिया हो, शटर बटन दबाने के बाद संपादन में क्या करते हैं? यह बहुत मायने रखता है।

इसे भी पढ़ें-

FAQ:

Q. फोटो एडिटिंग क्या है?

Ans. फोटो एडिटिंग एक फोटोग्राफ की गुणवत्ता में सुधार करने या एक वांछित दृश्य प्रभाव प्राप्त करने के लिए विभिन्न सॉफ्टवेयर टूल्स का उपयोग करके एक तस्वीर को संशोधित करने या बढ़ाने की प्रक्रिया है।

Q. फोटो एडिटिंग के लिए कौन सा सॉफ्टवेयर चाहिए?

Ans. फोटो एडिटिंग के लिए कई सॉफ्टवेयर विकल्प उपलब्ध हैं, जिनमें Adobe Photoshop, Lightroom, GIMP और Canva शामिल हैं। सॉफ़्टवेयर का चुनाव आपकी विशेषज्ञता के स्तर, आपके द्वारा किए जाने वाले संपादनों की जटिलता और आपके बजट पर निर्भर करता है।

Q. कुछ सामान्य फोटो संपादन तकनीकें क्या हैं?

Ans. सामान्य फोटो संपादन तकनीकों में चमक, कंट्रास्ट और रंग को समायोजित करना, अवांछित तत्वों या दोषों को हटाना, कुछ क्षेत्रों को तेज करना या धुंधला करना और फिल्टर या प्रभाव लागू करना आदि शामिल है।

Q. मैं फोटो एडिटिंग कैसे सीख सकता हूँ?

Ans. आप ऑनलाइन ट्यूटोरियल्स, क्लासेस या वर्कशॉप्स के जरिए फोटो एडिटिंग सीख सकते हैं। YouTube ट्यूटोरियल, ऑनलाइन पाठ्यक्रम और फोटग्राफी ब्लॉग सहित कई संसाधन ऑनलाइन उपलब्ध हैं।

Q. रॉ और जेपीईजी इमेज में क्या अंतर है?

Ans. RAW छवियां असंसाधित फाइलें होती हैं जिनमें कैमरे के सेंसर द्वारा कैप्चर किया गया सभी डेटा होता है, जबकि JPEG छवियां संपीड़ित फाइलें होती हैं जिन्हें कैमरे द्वारा संसाधित और संपीड़ित किया जाता है। रॉ छवियां संपादन में अधिक लचीलापन प्रदान करती हैं और अधिक सटीक समायोजन करने की अनुमति देती हैं।




Previous articleफोटोग्राफी कैमरा का तकनीकी पक्ष
Next articleस्पेशल इफेक्ट तकनीक | special effects