फोटोग्राफी कैमरा का तकनीकी पक्ष

0
1052
technical-aspects-camera
फोटोग्राफी कैमरा का तकनीकी पक्ष

हम सभी जानते हैं कि कैमरा एक लेंस के माध्यम से प्रकाश को कैप्चर करके और प्रकाश-संवेदनशील सेंसर या फिल्म पर केंद्रित करके काम करता है। इसके कई तकनीकी पहलू हैं, फोटोग्राफी कैमरे के इस तकनीकी पक्ष को जानना और समझना जरूरी है। आधुनिक डिजिटल कैमरों में सभी के मूल भाग समान होते हैं। फोटोग्राफी कैमरों के महत्वपूर्ण तकनीकी पहलुओं में लेंस, एपर्चर, आईएसओ, शटर स्पीड और लेंस फोकल लेंथ आदि शामिल हैं जो निम्नलिखित हैं-

  1. कैमरा लेंस
  2. एपर्चर
  3. आईएसओ
  4. शटर गति
  5. फोकल लेंथ
  6. इमेज सेंसर
  7. फ्लैश
  8. दृश्यदर्शी
  9. एलसीडी स्क्रीन
  10. ऑटोफोकस
  11. व्हाइट बैलेंस
  12. इमेज प्रोसेसर
  13. उपयोगकर्ता नियंत्रण

1. कैमरा लेंस (Camera Lens)

लेंस कैमरे का एक महत्वपूर्ण घटक है जो कैमरे के छवि संवेदक पर प्रकाश को पकड़ने और केंद्रित करने के लिए ज़िम्मेदार है। लेंस विभिन्न प्रकारों और आकारों में आते हैं, प्रत्येक की अपनी विशिष्ट विशेषताएं होती हैं जो अंतिम छवि को प्रभावित करती हैं। जैसे-
(i) मानक लेंस: इनकी फोकल लंबाई लगभग 50 मिमी होती है और इन्हें ‘सामान्य’ लेंस माना जाता है, क्योंकि ये ऐसी छवि प्रदान करते हैं जो मानव आँख के समान होती है।
(ii) टेलीफोटो लेंस: इनकी लंबी फोकल लंबाई होती है, आमतौर पर 70 मिमी से अधिक, और दूर के विषयों को कैप्चर करने के लिए उपयोग किया जाता है। उन्हें आगे छोटे, मध्यम और लंबे टेलीफोटो लेंस में विभाजित किया जा सकता है।
(iii) वाइड-एंगल लेंस: इनकी एक छोटी फोकल लम्बाई होती है, आमतौर पर 35 मिमी से कम होती है, और व्यापक परिदृश्यों को कैप्चर करने या फ्रेम में अधिक फ़िट करने के लिए उपयोग की जाती है।
(iv) ज़ूम लेंस: ये फोटोग्राफर को लेंस की फोकल लंबाई समायोजित करने की अनुमति देते हैं, जिससे वे किसी विषय पर ज़ूम इन या आउट कर सकते हैं।
(v) मैक्रो लेंस: ये क्लोज-अप फोटोग्राफी के लिए डिज़ाइन किए गए हैं और फोटोग्राफर को छोटी वस्तुओं पर बारीक विवरण कैप्चर करने की अनुमति देते हैं।
किसी विशेष स्थिति के लिए लेंस का चुनाव विषय, प्रकाश व्यवस्था और वांछित अंतिम छवि पर निर्भर करता है।

2. एपर्चर (aperture)

एपर्चर कैमरे के सामने खुलता है और लेंस के अंदर स्थित होता है। यह अपने आकार को समायोजित करके कैमरे में प्रवेश करने वाले प्रकाश की मात्रा को नियंत्रित करता है। एपर्चर को एफ-स्टॉप्स (f-stops) में मापा जाता है, जिसमें कम एफ-स्टॉप संख्या एक व्यापक एपर्चर का संकेत देती है और एक उच्च एफ-स्टॉप संख्या संकीर्ण एपर्चर का संकेत देती है। एफ-स्टॉप की संख्या जितनी छोटी होगी, उद्घाटन उतना ही बड़ा होगा और अधिक प्रकाश लेंस से होकर गुजरेगा। एक छोटा एफ-स्टॉप f/2.8 से f/4 होगा। एफ-स्टॉप जितना बड़ा होगा, उद्घाटन उतना ही छोटा होगा, और कम रोशनी लेंस से गुजर सकती है। एक बड़ा f-स्टॉप f/11 से f/16 होगा।
एपर्चर यह भी निर्धारित करता है कि छवि का कितना हिस्सा फ़ोकस में है तथा कितना फ़ोकस से बाहर है, जिसे ‘फ़ील्ड की गहराई’ के रूप में जाना जाता है। जिन कैमरों में लेंस बदलने की सुविधा होती है उनमें एपर्चर के अधिक विकल्प मौजूद होते हैं।

camera-lens-aperture
कैमरा लेंस और एपर्चर

3. आईएसओ (ISO)

आईएसओ सेटिंग प्रकाश के प्रति कैमरे की संवेदनशीलता को नियंत्रित करती है। एक उच्च आईएसओ के परिणामस्वरूप एक उज्ज्वल छवि होती है, लेकिन छवि में शोर (noise) की मात्रा भी बढ़ जाती है।

4. शटर गति (Shutter speed)

शटर कैमरे की बॉडी के अंदर स्थित होता है। इसका काम लेंस के जरिए कैमरे में आने वाली लाइट को कैमरा के इमेज सेंसर तक पहुंचने से रोकना है। शटर रिलीज़ बटन शटर को नियंत्रित करता है। यह डुअल प्रेस ऑप्शन के साथ आता है, आधा क्लिक करने पर केवल सब्जेक्ट पर फोकस होता है। कुछ कैमरों में बटन को आधा प्रेस करने पर ऑटोफोकस की सुविधा प्रदान करते हैं। जब पूरा बटन को दबाया जाता है, तो शटर खुल जाता है, जिससे प्रकाश छवि संवेदक पर प्रहार करता है और वांछित छवि कैप्चर करता है।
शटर गति उस समय की मात्रा को नियंत्रित करती है जब कैमरे का सेंसर प्रकाश के संपर्क में आता है। धीमी शटर गति के परिणामस्वरूप लंबा एक्सपोज़र और गति धुंधला होने की संभावना होती है, जबकि तेज शटर स्पीड मोशन को फ्रीज कर देती है।

camera-front-view
कैमरा फ्रंट व्यू

5. फोकल लेंथ (focal length)

फोकल लेंथ लेंस और कैमरे के सेंसर के बीच की दूरी को संदर्भित करता है, और छवि के दृश्य और आवर्धन (magnification) के क्षेत्र को प्रभावित करता है। एक वाइड-एंगल लेंस की एक छोटी फोकल लेंथ और देखने का एक संकीर्ण क्षेत्र होता है, जबकि एक टेलीफोटो लेंस की एक लंबी फोकल लंबाई और देखने का एक संकरा क्षेत्र होता है।
एक बार जब प्रकाश सेंसर द्वारा captured कर लिया जाता है, तो कैमरे का प्रोसेसर सेंसर से डेटा की interprets करता है और एक छवि बनाता है। छवि को बाद में उपयोग के लिए मेमोरी कार्ड या अन्य स्टोरेज डिवाइस पर संग्रहीत किया जाता है।

6. इमेज सेंसर (Image Sensor)

इमेज सेंसर या कैमरा सेंसर कैमरे की बॉडी में स्थित होता है। सेंसर प्रकाश का पता लगाता है और फोटोग्राफ बनाने के लिए इसे रिकॉर्ड करता है। यह शटर के खुलते ही सेंसर से टकराने वाले प्रकाश की तीव्रता को मापता है। सेंसर व्यक्तिगत इकाइयों से बना होता है, जिन्हें पिक्सेल कहा जाता है। यह पिक्सेल तक पहुँचने वाले फोटॉनों की संख्या का पता लगाकर प्रकाश की तीव्रता को मापता है। यह जानकारी कैमरे को वोल्टेज वैल्यू के रूप में रिले की जाती है जिसे बाद में कैमरे द्वारा रिकॉर्ड किया जाता है।
वर्तमान में जितने भी डिजिटल कैमरे आ रहें हैं उनमें इसकी जगह CCD और CMOS सेंसर का प्रयोग हो रहा है।

7. फ्लैश (Flash)

फोटोग्राफी के दौरान फ्लैश का उपयोग विषय पर प्रकाश डालने के लिए किया जाता है। यह अंधेरे वातावरण में विषय को रोशन करने या गति को स्थिर करने और तेज छवि के लिए अनुमति देने के लिए होता है। Flash दो तरह के होते हैं, बिल्ट-इन और एक्सटर्नल। बाहरी फ्लैश या तो कैमरा माउंटेड हो सकते हैं या कैमरे से अलग स्टैंड माउंटेड हो सकते हैं। फ़्लैश को हिलाने से बिल्ट-इन फ़्लैश की तुलना में प्रकाश में हेरफेर किया जा सकता है। बाहरी फ्लैश का एक अन्य लाभ अधिकांश अंतर्निर्मित फ्लैश पर अतिरिक्त शक्ति है। फ्लैश के पावर स्तर को समायोजित किया जा सकता है, और प्रकाश में सुधार करने या विशिष्ट प्रभाव बनाने के लिए कई फ्लैश का उपयोग किया जा सकता है। इस कारण से, कई उच्च-अंत कैमरों में अंतर्निर्मित फ्लैश नहीं होता है क्योंकि पेशेवर फोटोग्राफर हमेशा बाहरी फ्लैश का उपयोग करेंगे।

8. दृश्यदर्शी (Viewfinder)

दृश्यदर्शी कैमरे के सबसे महत्वपूर्ण भागों में से एक है। यह कैमरे के ऊपर एक आयताकार आकार का हिस्सा है जिससे विषय को देखा और फ्रेम किया जाता है। कुछ Viewfinder पूरी तरह से डिजिटल होते हैं, जो शॉट लेने से पहले शटर गति, एपर्चर और आईएसओ जैसे विभिन्न विवरण दिखाते हैं। डिजिटल कैमरों में मुख्यत: दो प्रकार के दृश्यदर्शी होते हैं- इलेक्ट्रॉनिक (EVF) और ऑप्टिकल (OVF)।
इलेक्ट्रॉनिक दृश्यदर्शी (EVF) यह दिखाता है कि कैमरा क्या देख रहा है। कैमरा स्क्रीन पर प्रदर्शित करने के लिए कैमरा सेंसर से जानकारी लेता है। ईवीएफ उस तस्वीर का बेहतर प्रतिनिधित्व देता है जिसे कैप्चर करना होता है क्योंकि डेटा सीधे सेंसर से ही आता है।
ऑप्टिकल (OVF) सब्जेक्ट पर लेंस के माध्यम से देखने की अनुमति देता है और यह एक स्पष्ट, उच्च-गुणवत्ता वाला दृश्य प्रदान करता है। हालाँकि OVF यह नहीं दिखाता है कि कैमरा क्या देख रहा है, वह केवल यह दिखाता है कि लेंस के माध्यम से छवि कैसी दिखती है। ऑप्टिकल दृश्यदर्शी को खेल और वन्यजीव फोटोग्राफरों द्वारा छवि की स्पष्टता और कोई अंतराल नहीं होने के कारण पसंद किया जाता है।

camera-back-view
कैमरा बेक व्यू

9. एलसीडी स्क्रीन (LCD Screen)

डिजिटल कैमरों में पीछे की तरफ एलसीडी स्क्रीन लगा होता है। जिससे फोटोग्राफ को देखा और विभिन्न पैरामीटर और मोड सेट किया जा सकता है। यह दृश्यदर्शी के रूप में भी कार्य करती है जिससे सब्जेक्ट को देखा जा सकता है।
कुछ हाई-एंड मॉडल के कैमरे डुअल डिस्प्ले के साथ आते हैं जिसमें सेकेंडरी डिस्प्ले कैमरे के ऊपरी हिस्से में होता है।

10. ऑटोफोकस (Autofocus)


डिजिटल कैमरों की यह एक महत्वपूर्ण खूबी है कि उसमें ऑटोफोकस तकनीकी होता है। यह स्वचालित रूप से लेंस के फोकस को समायोजित करता है ताकि फ्रेम में सब्जेक्ट शार्प और फोकस में हो। अधिकांश डिजिटल कैमरे फोटोग्राफर को विभिन्न AF पॉइंट के बीच चयन करने की अनुमति देते हैं, जिसका अर्थ है कि कैमरा फ्रेम में एक विशिष्ट बिंदु पर ध्यान केंद्रित करेगा। कुछ कैमरे फोटोग्राफर को अलग-अलग AF मोड, जैसे सिंगल-शॉट AF, निरंतर AFएएफ या मैनुअल फोकस के बीच चयन करने की अनुमति देते हैं।

11. व्हाइट बैलेंस (White balance)

व्हाइट बैलेंस डिजिटल कैमरों में एक सेटिंग है जो प्रकाश की स्थिति के कारण किसी भी रंग के कास्ट को बेअसर करने के लिए एक छवि में रंगों को समायोजित करता है। इसका लक्ष्य छवि में सफेद वस्तुओं को पीला, नीला या अन्य रंग डालने के बजाय सफेद दिखाना होता है। यह स्वचालित रूप से या मैन्युअल रूप से कैमरे की श्वेत संतुलन सेटिंग्स को समायोजित करके किया जा सकता है। कुछ सामान्य व्हाइट बैलेंस विकल्पों में ऑटो, सनी, क्लाउडी, शेड, टंगस्टन और फ्लोरोसेंट शामिल हैं। श्वेत संतुलन को समायोजित करके, फोटोग्राफर यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि उनकी छवियां उस दृश्य के रंगों का सटीक रूप से प्रतिनिधित्व करती हैं जिसे वे कैप्चर कर रहे हैं।

12. इमेज प्रोसेसर (Image Processor)

एक इमेज प्रोसेसर, जिसे ‘इमेज सिग्नल प्रोसेसर’ (ISP) या ‘इमेज प्रोसेसिंग इंजन’ के रूप में भी जाना जाता है, डिजिटल कैमरों में पाई जाने वाली एक चिप है। यह कैमरे के इमेज सेंसर द्वारा कैप्चर किए गए डेटा को प्रोसेस करने के लिए जिम्मेदार है। इमेज प्रोसेसर सेंसर से कच्चा डेटा लेता है और अंतिम इमेज बनाने के लिए कई तरह के कार्य करता है, जैसे: डेमोसाइजिंग, शोर में कमी, कलर करेक्शन, शार्प तथा संपीड़न।
इमेज प्रोसेसर कैमरे द्वारा निर्मित अंतिम छवि की गुणवत्ता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। हाई-एंड कैमरों में आमतौर पर अधिक उन्नत छवि प्रोसेसर होते हैं जो इन कार्यों को अधिक सटीकता और गति के साथ कर सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप उच्च-गुणवत्ता वाली छवियां प्राप्त होती हैं।

13. उपयोगकर्ता नियंत्रण (User Controls)

डिजिटल कैमरे विभिन्न प्रकार के उपयोगकर्ता नियंत्रणों के साथ आते हैं जो फोटोग्राफर को कैमरे की सेटिंग्स को समायोजित करने और अंतिम छवि को ठीक करने की अनुमति देते हैं, जैसे- शटर गति, एपर्चर, आईएसओ, श्वेत संतुलन, फोकस तथा छवि गुणवत्ता आदि। इन नियंत्रणों को भौतिक बटनों और कैमरे के मेनू सिस्टम के माध्यम से समायोजित किया जा सकता है, जिसे आम तौर पर कैमरे की एलसीडी स्क्रीन के माध्यम से एक्सेस किया जाता है।
इसके अतिरिक्त, कई कैमरे शूटिंग मोड और सीन प्रीसेट के साथ भी आते हैं जो फोटोग्राफर को विशिष्ट प्रकार की फोटोग्राफी, जैसे पोर्ट्रेट, लैंडस्केप या एक्शन शॉट्स के लिए कैमरा सेटिंग्स को जल्दी से समायोजित करने की अनुमति देते हैं।
फोटोग्राफी कैमरों की इन महत्वपूर्ण तकनीकी पहलुओं के आलावा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, रॉ सपोर्ट और कनेक्टिविटी जैसी अन्य विशेषताएं भी होती हैं जो फोटोग्राफर्स को बेहतर तस्वीरें लेने और अंतिम छवि पर अधिक नियंत्रण रखने में मदद करती हैं।

इसे भी पढ़ें-

FAQ:

Q. एपर्चर किसे कहते हैं और यह फोटो को कैसे प्रभावित करता है?

Ans. एपर्चर लेंस में खुलने के आकार को संदर्भित करता है जो प्रकाश को कैमरे में प्रवेश करने की अनुमति देता है। एक व्यापक एपर्चर (lower f-stop number) अधिक प्रकाश देता है और क्षेत्र की उथली गहराई (फोकस में छवि से कम) में परिणाम देता है। एक संकरा एपर्चर (higher f-stop number) कम रोशनी देता है और इसके परिणामस्वरूप क्षेत्र की अधिक गहराई (फोकस में अधिक छवि) होती है।

Q. आईएसओ क्या है और यह फोटो को कैसे प्रभावित करता है?

Ans. आईएसओ (ISO) प्रकाश के प्रति कैमरे की संवेदनशीलता को संदर्भित करता है। उच्च आईएसओ के परिणामस्वरूप एक उज्ज्वल छवि प्राप्त होती है लेकिन अधिक शोर (grain) होता है। कम आईएसओ के परिणामस्वरूप एक गहरी छवि प्राप्त होती है लेकिन कम शोर होता है।

Q. शटर गति क्या है और यह फोटो को कैसे प्रभावित करती है?

Ans. शटर गति उस समय की मात्रा को संदर्भित करती है जब कैमरे का सेंसर प्रकाश के संपर्क में आता है। धीमी शटर गति के परिणामस्वरूप लंबा एक्सपोजर और मोशन ब्लर की संभावना होती है। तेज शटर गति से गति रुक जाती है।

Q. वाइड-एंगल लेंस और टेलीफोटो लेंस में क्या अंतर है?

Ans. वाइड-एंगल लेंस में छोटी फोकल लम्बाई और व्यापक दृश्य क्षेत्र होता है, जिससे फ्रेम में अधिक दृश्य कैप्चर होता है। टेलीफोटो लेंस में लंबी फोकल लम्बाई और देखने का एक छोटा क्षेत्र होता है, जिससे दूर के विषयों पर जूम इन किया जा सकता है।

Q. छवि स्थिरीकरण क्या है और यह महत्वपूर्ण क्यों है?

Ans. छवि स्थिरीकरण कैमरा शेक और धुंधलेपन को कम करने में मदद करता है, जिसके परिणामस्वरूप चित्र स्पष्ट होते हैं। यह विशेष रूप से तब उपयोगी हो सकता है जब कम रोशनी में शूटिंग किया जाए या लंबी फोकल लंबाई के लेंस का उपयोग किया जाए।

Q. रॉ क्या है और इसका इस्तेमाल क्यों करना चाहिए?

Ans. रॉ (RAW) एक फाइल स्वरूप है जिसमें कैमरे के सेंसर द्वारा कैप्चर किया गया सभी डेटा संग्रहीत होता है। इसमें कोई संपीड़न या गुणवत्ता का नुकसान नहीं होता है। यह पोस्ट-प्रोसेसिंग के दौरान अंतिम छवि पर अधिक नियंत्रण रखने की अनुमति देता है। हालाँकि, रॉ फाइलें JPEG फाइलों की तुलना में बहुत बड़ी होती हैं और इसके लिए अधिक संग्रहण स्थान की आवश्यकता होती है।

Q. मीटरिंग क्या है और यह कैसे काम करता है?

Ans. मीटरिंग दृश्य की चमक और कंट्रास्ट के आधार पर छवि के लिए इष्टतम एक्सपोजर निर्धारित करती है। कैमरे का प्रकाश मीटर प्रकाश की मात्रा को मापता है और ठीक से उजागर छवि के लिए सही शटर गति और एपर्चर सेटिंग्स की गणना करता है।


Previous articleप्रकाश व्यवस्था स्टूडियो के अंदर और बाहर
Next articleफोटो संपादन तकनीक | photo editing techniques