हिंदी दलित आत्मकथाओं की सूची | dalit aatmkathayen

0
5983
dalit-aatmkathayen
दलित आत्मकथाओं की सूची

दलित आत्मकथाएं

हिंदी की पहली दलित आत्मकथा मोहन दास नैमिशराय की अपने-अपने पिंजरे (1995) को माना जाता है। हिंदी में दलित आत्मकथा लेखन के रूप में कई महत्वपूर्ण रचनाएँ सामने आई, जो काफी चर्चित रहीं। उनकी सूची नीचे दी गई है-

दलित आत्मकथाओं की सूची

हिंदी की dalit aatmkathaon ki list की निम्नलिखित है-

लेखकआत्मकथा
मोहन दास नैमिशरायअपने-अपने पिंजरे (भाग-1, 1995)
अपने-अपने पिंजरे (भाग-2, 2000)
डी. आर. जाटवमेरा सफर मंजिल (2000)
ओमप्रकाश वाल्‍मीकिजूठन (भाग-1, 1997)
जूठन (भाग-2, 2013)
कौशल्या बैसंतीदोहरा अभिशाप (1999)
माता प्रसादझोपड़ी से राजभवन (2002)
सूरजपाल सिंह चौहानतिरस्कृत (भाग-1, 2002)
तिरस्कृत (भाग-2, 2006)
रमाशंकर आर्यघुटन (2005)
रूपनारायण सोनकरनागफनी (2007)
श्‍योराज सिंह ‘बेचैन’बेवक्त गुजर गया माली (2006)
मेरा बचपन मेरे कंधों पर (2009)
धर्मवीरमेरी पत्नी और भेड़िया (2009)
खसम खुशी क्यों होय? (2013)
तुलसी राममुर्दहिया (भाग 1, 2010)
मणिकर्णिका (भाग 2, 2013)
सुशीला टाकभोरेशिकंजे का दर्द (2011)
कौशल पंवारबवंडरों के बीच (2021)
दलित आत्मकथाएं

इन आत्मकथाओं के अतरिक्त दलित आत्मकथा में 2 मराठी आत्मकथाओं का काफी प्रभाव रहा, जिन्हें हिंदी में काफी पढ़ा-लिखा गया-

1. दया पवार- अछूत,

2. शरण कुमार लिम्बाले- अक्करमाशी

Previous articleहिंदी में स्त्री आत्मकथाएं | stri aatmkathayen
Next articleहिंदी यात्रा-वृत्तान्त की सूची | hindi yatra vrittant