स्त्रीविमर्श से संबंधित आलोचनात्मक पुस्तक-सूची

0
3098
stri-vimrsh-books-list
स्त्रीविमर्श से संबंधित आलोचनात्मक पुस्तकें

वीर भारत तलवार के शब्दों में हिंदी साहित्य में स्त्रीविमर्श से दयनीय कोई दूसरा विमर्श नहीं है, तब भी स्त्रीविमर्श पर काफी लिखा पढ़ा गया। अन्य विषयों और विधाओं की तरह पश्चिमी नारी आंदोलनों और मुक्ति का प्रभाव हमारे लेखक-लेखिकाओं पर भी पढ़ा। या कहें इसके सिद्धांत एवं दर्शन मुख्य रूप से पश्चिमी मूल्यों एवं दर्शन पर आधारित रहे हैं। स्त्रीविमर्श से सम्बन्धित आलोचनात्मक ग्रन्थों की सूची नीचे दी जा रही है।

स्त्रीविमर्श (stri-vimarsh) से सम्बन्धित पुस्तक-सूची-

लेखिका/लेखकपुस्तक
राधा कुमारस्त्री संघर्ष का इतिहास
प्रभा खेतानउपनिवेश में स्त्री,
स्त्री उपेक्षिता (अनु.)
राजेन्द्र यादवआदमी के निगाह में औरत,
औरत उत्तर कथा
राजेन्द्र यादव, अर्चना वर्माअतीत होती सदी और स्त्री का भविष्य
राजकिशोरस्त्री-पुरुष: कुछ पुनर्विचार,
स्त्री के लिए जगह,
स्विमिंग पूल पर टॉपलेस,
स्त्रीत्व का उत्सव,
स्त्री, परंपरा और आधुनिकता
डॉ. धर्मवीरसीमन्तनी उपदेश
अरविंद जैनऔरत होने की सजा,
उतराधिकार बनाम पुत्राधिकार,
औरत: अस्तित्व और अस्मिता,
न्यायक्षेत्रे अन्यायक्षेत्रे,
यौन हिंसा और न्याय की भाषा,
बचपन से बलात्कार
कमला प्रसाद, अरविंद जैनस्त्री: मुक्ति का सपना
देवेन्द्र इस्सरस्त्रीमुक्ति के प्रश्न
भवदेव पाण्डेयबंग महिला: नारी मुक्ति का संघर्ष
सुधीश पचौरीनारी देह के विमर्श
मन्मथनाथ गुप्तस्त्री-पुरुष सम्बन्धों का रोमांचकारी इतिहास
जगदीश्वर चतुर्वेदीस्त्रीवादी साहित्य विमर्श
मृदुला गर्गचुकते नहीं सवाल
मृणाल पांडेदेह की राजनीति से देश की राजनीति  तक,
परिधि पर स्त्री
लीला दुबेलिंगभाव का मानव वैज्ञानिक अन्वेषण: प्रतिच्छेदी क्षेत्र
कात्यायनीदुर्ग द्वार पर दस्तक
मैत्रेयी पुष्पाखुली खिड़कियाँ,
सुनो मालिक सुनो
अनामिकास्वाधीनता का स्त्री-पक्ष,
स्त्रीत्व का मानचित्र,
स्त्री विमर्श का लोकपक्ष,
पानी जो पत्थर पीता है
नासिरा शर्माऔरत के लिए औरत
रोहिणी अग्रवालहिंदी उपन्यास का स्त्री-पाठ,
साहित्य की ज़मीन और स्त्री-मन के उच्छ्वास,
स्त्री-लेखन: स्वरूप और संकल्प
क्षमा शर्मास्त्रीवादी विमर्श: समय और साहित्य,
स्त्रीत्ववादी विमर्श: समाज और साहित्य,
समकालीन स्त्री विमर्श,
स्त्री का समय
सरला माहेश्वरीनारी प्रश्न,
सामान नागरिक संहिता
नमिता सिंहस्त्री-प्रश्न
तसलीमा नसरीनऔरत के हक में,
औरत का कोई देश नहीं
महाश्वेता देवीस्त्री-पर्व
गीताश्रीसपनों की मंडी
अनुपमा रायनागरिकता का स्त्री-पक्ष
के.एम. मालतीस्त्री विमर्श: भारतीय परिप्रेक्ष्य
इलीना सेनसंघर्ष के बीच संघर्ष के बीज
दिव्या जैनहौवा की बेटी
सुमन कृष्णकांतइक्कीसवीं सदी की ओर
दिनेश नंदिनी डालमियानए आयामों को तलाशती नारी
उर्मिला प्रकाश मिश्रप्राचीन भारत में नारी
जया मित्राजो मारे जायेंगे
सुधा बालकृष्णननारी: अस्तित्व की पहचान
नताशा अरोड़ाप्राचीन भारत में न्याय व्यवस्था
प्रियदर्शिनी विजयश्रीदेवदासी या धार्मिक वेश्या एक पुनर्विचार
नूतन सिन्हासाम्प्रदायिक दंगे और नारी
गीतेश शर्माधर्म के नाम पर
ममता कालियाभविष्य का स्त्री विमर्श
जर्मन ग्रीयरबधिया स्त्री
सीमोन द बुआएक गुमशुदा औरत की डायरी
लुइज़ ब्राउनयौन दासियाँ: एशिया का सेक्स बाज़ार
वर्जीनिया वुल्फअपना कमरा
लक्ष्मीनारायण त्रिपाठीमैं हिजड़ा… मैं लक्ष्मी!
स्त्रीविमर्श संबंधितआलोचना ग्रंथ
Previous articlesamas | समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
Next articleभरतेंदु युगीन प्रमुख आलोचक और आलोचना ग्रंथ