रीतिकालीन प्रबंध एवं मुक्तक काव्य तथा अलंकार, छंद, रस एवं काव्यांग निरूपक ग्रंथ

0
1646
ritikalin-prabandh-evam-muktak-kavya
रीतिकालीन मुक्तक एवं प्रबंध काव्य

यहाँ पर रीतिकालीन मुक्तक काव्य, प्रबंध काव्य, अलंकार निरूपक ग्रंथ, छंद निरूपक ग्रंथ, रस निरुपक ग्रंथ तथा काव्यांग निरूपक ग्रंथ का विवरण प्रस्तुत किया जा रहा है। क्योंकि बहुधा इनसे प्रश्न बन जाते हैं, जैसे- निम्न में अलंकार निरूपक ग्रंथ है? इस लिहाज से यह लिस्ट महत्वपूर्ण है।

रीतिकालीन प्रमुख मुक्तक काव्य

रीतिकाल के प्रमुख मुक्तक काव्य और कवि निम्नलिखित हैं-

कविरचनाएं
1.  केशवकविप्रिया, रसिकप्रिया, जहांगीर जस चंद्रिका, रामचंद्रिका, विज्ञान गीता
2.  चिंतामणिकविकुल कल्पतरु, काव्य विवेक, श्रृंगार मंजरी, काव्य प्रकाश, रस विलास, छन्द विचार
3.   भूषणशिवराज भूषण, छत्रसाल दशक, शिवाबावनी, अलंकार प्रकाश, छन्दोहृदय प्रकाश
4.   मतिरामललित ललाम, मतिराम सतसई, रसराज, अलंकार पंचाशिका, वृत्त कौमुदी
5.   बिहारीसतसई
6.   रसनिधिरतन हजारा, दिष्णुपद कीर्तन, कवित्त, अरिल्ल, हिण्डोला, सतसई, गीति संग्रह
7.   जसवंत सिंहभाषा भूषण, आनन्द विलास, सिद्धान्त बोध सिद्धान्तसार, अनुभव प्रकाश, अपरोक्ष सिद्धान्त, स्फुट छंद
8.   कुलपति मिश्ररस रहस्य, नखशिख, दुर्गाभक्ति तरंगिणी, मुक्तिरंगिणी, संग्रामसार
9.   मंडनरस रत्नावली, रस विलास, नखशिख, जनकपचीसी, नैन पचासा, काव्य रत्न
10.  आलमआलमकेलि
11.  देवभाव विलास, भवानी विलास, कुशल विलास, रस विलास, जाति विलास रसायन, देव शतक, प्रेमचन्द्रिका, प्रेमदीपिका, राधिका विलास
12.  सुरति मिश्रअलंकार माला, रस रत्नमाला, नखशिख, काव्य सिद्धान्त, रस रत्नाकर, श्रृंगार सागर, भक्ति विनोद
13.  नृप शंभूनायिका भेद, नखशिख, सातशप्तक
14.  श्रीपतिकाव्य सरोज, कविकल्पद्रुत, रस सागर, अलंकार गंगा, विक्रम विलास, अनुप्रास विनोद
15.  गोपरामचंद्र भूषण, रामचंद्राभरण, रामालंकार
16.  घनानंदपदावली, वियोग बेलि, सुजान हित प्रबन्ध, प्रीति पावस, कृपाकन्द निबन्ध, यमुनायश, प्रकीर्णक छंद
17.  रसलीनअंगदर्पण, रसप्रबोध, स्फुट छंद
18.  सोमनाथरसपीयूष निधि, शृंगार विलास, प्रेम पचीसी
19.  रसिक सुमतिअलंकार चंद्रोदय
20.  भिखारीदासकाव्य निर्णय, श्रृंगार निर्णय, रस सारांश, छन्द प्रकाश, छन्दार्णव
21.  कृष्ण कविअलंकार कलानिधि, गोविन्द विलास
22.  रघुनाथकाव्य कलाधर, रस रहस्य
23.  दूलहकविकुल कंठाभरण, स्फुट छंद
24.  हितवृन्दावनदासस्फुट पद लगभग 20 हजार
25.  गिरधर कविरायस्फुट छंद
26.  सेवादासनखशिख, रस दर्पण, राधा सुधाशतक, रघुनाथ अलंकार
27.  रामसिंहअलंकार दर्पण, रस शिरोमणि, रस विनोद
28.  बोधाविरहवारीश, इश्कनामा
29.  नंद किशोरपिंगल प्रकाश
30.  रसिक गोविंदरसिक गोविंदानंदघन, युगल रस माधुरी, समय प्रबन्ध
31.  पद्माकरजगद्विनोद, पद्माभरण, गंगालहरी, प्रबोध प्रचासा, कलि पच्चीसी, प्रतापसिंह विरुदावली, स्फुट छंद
32.  प्रताप साहिव्यंग्यार्थ कौमुदी, काव्य विलास, श्रृंगार मंजरी, श्रृंगार शिरोमणि, काव्य विनोद, अलंकार चिन्तामणि
33.  बेनी बन्दीजनरस विलास
34.  बेनी ‘प्रवीण’नवरसतरंग, शृंगार भूषण
35.  जगत सिंहसाहित्यसुधानिधि
36.  गिरधर दासरस रत्नाकर, भारती भूषण, उत्तरार्द्ध नायिकाभेद
37.  दीनदयाल गिरिअन्योक्ति कल्पद्रुम, दृष्टान्त तरंगिणी, वैराग्य दिनेश
38.  अमीर दाससभा मंडन, वृत्त चंद्रोदय ब्रज विलास
39.  ग्वाल कविरसिकानंद, यमुना लहरी, रसरंग, दूषण दर्पण, राधाष्टक, कवि हृदय विनोद, कुब्जाष्टक, अलंकार भ्रमभंजन, रसरूप दृगशतक, कविदर्पण
40.  चंद्रशेखर वाजपेयीरसिक विनोद, नखशिख, माधवी वसंत, वृंदावन शतक, गुरुपंचाशिका
41.  द्विजदेवश्रृंगार लतिका, श्रृंगार बत्तीसी, कवि कल्पद्रुम, श्रृंगार चालीसा
42.  सेनापतिकवित्त रत्नाकर
रीतिकालीन मुक्तक काव्य 

रीतिकालीन प्रमुख प्रबंध काव्य

रीतिकाल के प्रमुख प्रबंध काव्य और कवि निम्नलिखित हैं-

कविप्रबंध काव्य
1.   चिन्तामणिरामायण, रामाश्वमेध, कृष्ण चरित
2.   मण्डनजानकी जू का ब्याह, पुरन्दर माया
3.   कुलपति मिश्रसंग्राम सार
4.   लाल कविछत्र प्रकाश
5.   सुरति मिश्रश्रीकृष्णचरित, रामचरित
6.   सोमनाथपंचाध्यायी, सुजान विलास
7.   गुमान मिश्रनैषधचरित
8.   रामसिंहजुगल विलास
9.   पद्माकरहिम्मत बहादुर विरुदावली
10.  रसिक गोविन्दरामायण सूचनिका
11.  ग्वालहम्मीर हठ, गोप पच्चीसी, विजय विनोद
12.  चन्द्रशेखर वाजपेयीहम्मीर हठ
रीतिकालीन प्रबंध काव्य

रीतिकालीन अलंकार निरूपक ग्रंथ

रीतिकाल के प्रमुख अलंकार निरूपक ग्रंथ और कवि निम्नलिखित हैं-

कविअलंकार निरूपक ग्रंथ
1. जसवंत सिंहभाषा भूषण
2. मतिरामललित ललाम, अलंकार पंचाशिका
3. भूषणशिवराज भूषण
4. श्रीधर कविभाषा भूषण
5. पद्माकरपद्माभरण
6. गोपरामचंद्रभूषण, रामचंद्राभरण, रामालंकार
7. रसिक सुमितअलंकार चंद्रोदय
8. रघुनाथ बंदीजनरसिक मोहन
9. गोविन्दकर्णाभरण
10. दूलहकविकुल कंठाभरण
11. ऋषिनाथअलंकार मणि मंजरी
12. रामसिहअलंकार दर्पण 
13. रसरूपतुलसी भूषण
14. सेवादासरघुनाथ-अलंकार
15. गिरिधर दासभारती भूषण
रीतिकालीन अलंकार निरूपक ग्रंथ

रीतिकालीन छंद निरूपक ग्रंथ

रीतिकाल के छंद निरूपक ग्रंथ और कवि निम्नलिखित हैं-

कविछंद निरुपक ग्रंथ
1.  चिन्तामणिपिंगल
2.  मुरलीधर ‘भूषण’छन्दो हृदय प्रकाश
3.  मतिरामछंदसार
4.  सुखदेव मिश्रवृत्त विचार
5.  माखनश्रीनाग पिंगल छंद विलास
6.  जयकृष्ण भुजंगपिंगल रूपदोष भाषा
7.  भिखारीदासछंदार्णव
8.  नारायण दासछंदसार
9.  दशरथवृत्त विचार
10. नंद किशोरपिंगल प्रकाश
11. चेतनलघु पिंगल
12. राम सहायवृत्त तरंगिणी
13. हरिदेवछंद पयोनिधि
14. अयोध्या प्रसाद वाजपेयीछंदानंद पिंगल
रीतिकालीन छंद निरूपक ग्रंथ

 रीतिकालीन रस निरुपक ग्रंथ

रीतिकाल के रस निरुपक ग्रंथ और कवि निम्नलिखित हैं-

कविरस निरुपक ग्रंथ
1.   तोष निधिसुधा निधि
2.   मतिरामरसराज
3.   देवरस विलास, भाव विलास, भवानी विलास
4.   भिखारीदासरस सारांश, श्रृंगार निर्णय
5.   पद्माकरजगत विनोद
6.   बेनीप्रवीननवरस तरंग
7.   प्रताप साहिव्यंग्यार्थ कौमुदी
8.   सुखदेव मिश्ररसरत्नाकर, रसार्णव, श्रृंगार लता
9.   मंडनरस रत्नावली
10.  ग्वालरस रंग
11.  श्रीपतिरस सागर
12.  याकूब खाँरसभूषण
13.  रघुनाथकाव्यकलाधर
14.  उदयनाथ कवीन्द्ररस चंद्रोदय
15.  शंभुनाथरस तरंगिणी, रस कल्लोल
16.  समनेसरसिक विलास
17.  शिवनाथरस सृष्टि
18.  उजियारे (दौलतराम)रस चन्द्रिका, जुगल प्रकाश
19.  राम सिंहरस निवास
20.  सेवादासरस दर्पण
21.  बेनी बंदीजन्रस विलास
22.  करन कविरस कल्लोल
23.  नवीनरंग तरंग
24.  चन्द्रशेखररसिक विनोद
25.  सोमनाथश्रृंगार विलास
26.  कृष्णभट्ट देवऋषिश्रृंगार रस माधुरी
27.  यशवंत सिंहश्रृंगार शिरोमणि
28.  लालकवि (गोरे लाल)विष्णु विलास
रीतिकालीन रस निरुपक ग्रंथ

 रीतिकालीन काव्यांग निरूपक ग्रंथ

रीतिकाल के काव्यांग/सर्वांग निरूपक ग्रंथ और कवि निम्नलिखित है-

कविसर्वांग निरुपक ग्रंथ
1.   चिन्तामणिकवि कुल कल्पतरु
2.   कुलपतिरस रहस्य
3.   देवकाव्य रसायन / शब्द रसायन
4.   सूरति मिश्रकाव्य सिद्धान्त
5.   कुमार मणिरसिक रसाल
6.   श्रीपतिकाव्य सरोज
7.   सोमनाथ (शशिनाथ)रसपीयूषनिधि
8.   भिखारीदासकाव्य निर्णय
9.   रूप साहीरूप विलास
10.  जनराजकविता रस विनोद
11.  जगत सिंहसाहित्य सुधानिधि
12.  रणवीर सिंहकाव्य रत्नाकर
13.  प्रताप साहिकाव्य विलास
14.  थान कविदलेल प्रकाश
15.  रतन कविफतह प्रकाश
रीतिकालीन काव्यांग निरूपक ग्रंथ
Previous articleहिन्दी आचार्यों एवं समीक्षकों की रस विषयक दृष्टि
Next articleपीयर-रिव्यू जर्नल | peer reviewed journal