Hindi Sahitya Quiz 02 | हिंदी साहित्य के महत्वपूर्ण प्रश्न

0
1677
hindi-sahity-quiz
हिंदी भाषा और साहित्य क्विज

Hindi Sahitya से संबंधित quiz यहाँ पर दिया जा रहा है जो UGC NET / JRF, PGT, TGT और प्रवक्ता जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए महत्वपूर्ण हैं. इस क्विज में कुल 27 MCQs दिया गया है. हिंदी साहित्य संबंधित इन प्रश्नों के अभ्यास से आपको को तैयारी में मदद जरुर मिलेगी.

1. जन्म-काल के अनुसार निम्नलिखित रचनाकारों का सही अनुक्रम है:
महादेवी वर्मा, सुमित्रानंदन पंत, अज्ञेय, मुक्तिबोध
महादेवी वर्मा, सुमित्रानंदन पंत, मुक्तिबोध, अज्ञेय
अज्ञेय, सुमित्रानंदन पंत, महादेवी वर्मा, मुक्तिबोध
सुमित्रानंदन पंत, महादेवी वर्मा, अज्ञेय, मुक्तिबोध
सही अनुक्रम- सुमित्रानंदन पंत (20 मई, 1900 ई.), महादेवी वर्मा (26 मार्च, 1907 ई.), अज्ञेय (7 मार्च, 1911 ई.), मुक्तिबोध (13 नवंबर, 1917 ई.)
2. प्रकाशन वर्ष के अनुसार जयशंकर प्रसाद के निम्नलिखित नाटकों का सही अनुक्रम है:
स्कंदगुप्त, राज्यश्री, ध्रुवस्वामिनी, अजातशत्रु
अजातशत्रु, स्कंदगुप्त, ध्रुवस्वामिनी, राज्यश्री
राज्यश्री, स्कंदगुप्त, अजातशत्रु, ध्रुवस्वामिनी
राज्यश्री, अजातशत्रु, स्कंदगुप्त, ध्रुवस्वामिनी
सही अनुक्रम- राज्यश्री (1915), अजातशत्रु (1922), स्कंदगुप्त(1928), ध्रुवस्वामिनी (1933)
3. प्रकाशन वर्ष के अनुसार निम्नलिखित रचनाओं का सही अनुक्रम है:
परिमल, गुंजन, सांध्यगीत, झरना
गुंजन, सांध्यगीत, झरना, परिमल
झरना, सांध्यगीत, परिमल, गुंजन
झरना, परिमल, गुंजन, सांध्यगीत
सही अनुक्रम: प्रसाद- झरना (1918), निराला- परिमल (1930), पंत- गुंजन (1932), महादेवी- सांध्यगीत (1936)
4. अरस्तू द्वारा प्रस्तुत दुखान्तक के अंगों का सही क्रम है-
कथानक, विचार, चरित्र, पदयोजना, दृश्य, गीत
विचार, कथानक, चरित्र, गीत, पदयोजना, दृश्य
विचार, कथानक, पदयोजना, दृश्य, चरित्र, गीत
कथानक, चरित्र, विचार, पदयोजना, गीत, दृश्य
अरस्तू द्वारा प्रस्तुत दुखान्तक (Tragedy) के 6 अंगों का सही क्रम है- कथानक, चरित्र, विचार, पदयोजना, गीत, दृश्य
5. ‘आँगन के वंदनवार’ संस्मरण के रचनाकार हैं?
काशीनाथ सिंह
विष्णुकांत शास्त्री
विष्णु प्रभाकर
विवेकी राय
‘आँगन के वंदनवार’ (2003 ई.) संस्मरण के रचनाकार विवेकी राय हैं।
6. ‘टुंडा लाट’ उपन्यास के रचनाकार हैं?
संजीव
शिवप्रसाद सिंह
दूधनाथ सिंह
जगदीश चंद्र
‘टुंडा लाट’ (1978 ई.) उपन्यास के रचनाकार जगदीश चंद्र माथुर हैं।
7. ‘अपने-अपने पिंजरे’ किस विधा की रचना है?
गीतिनाट्य
जीवनी
निबंध
आत्मकथा
मोहन दास नैमिशराय कृत ‘अपने-अपने पिंजरे’ आत्मकथा विधा की रचना है। यह हिंदी की पहली दलित आत्मकथा है।
8. ‘हिंदी के विकास में अपभ्रंश का योग’ पुस्तक के लेखक हैं-
रामविलास शर्मा
निर्मला जैन
नगेन्द्र
नामवर सिंह
‘हिंदी के विकास में अपभ्रंश का योग’ (1952 ई.) पुस्तक के लेखक नामवर सिंह हैं।
9. ‘कौवे और काला पानी’ के रचनाकार हैं-
मंगलेश डबराल
अशोक वाजपेयी
अज्ञेय
निर्मल वर्मा
‘कौवे और काला पानी’ (1983 ई.) कहानी-संग्रह के रचनाकार निर्मल वर्मा हैं।
10. ‘व्योमकेश दरवेश’ के रचनाकार हैं?
मंगलेश डबराल
नागार्जुन
काशीनाथ सिंह
विश्वनाथ त्रिपाठी
‘व्योमकेश दरवेश’ (2011 ई.) जीवनी के रचनाकार विश्वनाथ त्रिपाठी हैं, यह आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी पर लिखी गई है।
11. निम्नलिखित रचनाओं और रचनाकारों का असंगत युग्म है?
एक और द्रोणाचार्य – शंकर शेष
खंजन नयन – अमृतलाल नागर
फाल्गुनी – मेहरुन्निसा परवेज
अंतराल – प्रभाकर माचवे
‘अंतराल’ (2005 ई.) उपन्यास के लेखक मोहन राकेश हैं।
12. ‘हिंदी प्रदीप’ पत्रिका का संपादन निम्नलिखित में से किसने किया था?
प्रतापनारायण मिश्र
भारतेंदु हरिश्चंद्र
महावीरप्रसाद द्विवेदी
बालकृष्ण भट्ट
‘हिंदी प्रदीप’ मासिक पत्रिका का संपादन ‘बालकृष्ण भट्ट’ ने किया था। प्रयागराज से निकलने वाले इस पत्र का विमोचन भारतेंदु हरिश्चंद ने किया था।
13. निम्नलिखित रचनाओं और रचनाकारों का कौन सा युग्म असंगत है?
तुलसीराम – मणिकर्णिका
ओमप्रकाश वाल्मीकि – तिरस्कृत
मोहनदास नैमिशराय – मेरे दिन मेरे वर्ष
लक्ष्मण गायकवाड़ – नागफनी
नागफनी (2007 ई.) आत्मकथा ‘रूपनारायण सोनकर’ का है।
14. निम्नलिखित हिंदी सेवियों से उनके मूल स्थान सुमेलित नहीं है-
इ. चेलिशेव – रूस
जार्ज ए. ग्रियर्सन – आयरलैंड
लोठार लुत्से – जर्मनी
फ्रेडरिक पिन्काट – अमेरिका
फ्रेडरिक पिन्काट का मूल स्थान इंग्लैंड है। भारतीय सिविल सेवा में हिंदी को प्रतिष्ठापित करने का श्रेय इन्हीं को जाता है।
15. निम्नलिखित में से ‘आँखों देखा पाकिस्तान’ उपन्यास यात्रा-वृतांत के लेखक हैं?
नफीस आफरीदी
असगर वजाहत
मंजूर एहतिशाम
कमलेश्वर
‘आँखों देखा पाकिस्तान’ (2006) यात्रा-वृतांत के लेखक कमलेश्वर हैं।
16. निम्नलिखित उपन्यासकारों और उनके उपन्यासों में सुमेलित नहीं है-
अमृतलाल नागर – बूँद और समुद्र
मंजूर एहतिशाम – सूखा बरगद
श्रीलाल शुक्ल – राग दरबारी
कृष्णा सोबती – पारिजात
पारिजात (2011 ई.) उपन्यास नासिरा शर्मा का है।
17. ‘एक फूल की चाह’ नामक कविता के रचयिता हैं-
सुभद्राकुमारी चौहान
माखनलाल चतुर्वेदी
बालकृष्ण शर्मा ‘नवीन’
सियारामशरण गुप्त
‘एक फूल की चाह’ सियारामशरण गुप्त जी की एक लंबी, कथात्मक और प्रसिद्ध कविता है।
18. ‘सीढ़ियों पर धूप में’ काव्य-संग्रह के रचयिता हैं-
सर्वेश्वर दयाल सक्सेना
धूमिल
केदारगाथ अग्रवाल
रघुवीर सहाय
‘सीढ़ियों पर धूप में’ (1960 ई.) काव्य-संग्रह के रचयिता रघुवीर सहाय हैं।
19. निम्नलिखित पंक्तियों और लेखकों में सुमेलित नहीं है:
मैं साहित्य को मनुष्य की दृष्टि से देखने का पक्षपाती हूँ- हजारीप्रसाद द्विवेदी
कविता में कही गयी बात चित्र-रूप में हमारे सामने आनी चाहिए- रामचंद्र शुक्ल
साहित्य जनसमूह के हृदय का विकास है- बालकृष्ण भट्ट
आचरण की सभ्यता का यह देश ही निराला है- प्रतापनारायण मिश्र
यह कथन सरदार पूर्णसिंह का है।
20. निम्नलिखित रचनाओं और उनके रचनाकारों में सुमेलित है:
तुम चंदन हम पानी- अज्ञेय
भारतीय संस्कृति के स्वर- विद्यानिवास मिश्र
लिखि कागद कोरे- महादेवी वर्मा
संस्कृति और साहित्य- रामविलास शर्मा
निबंध संग्रह और लेखक: ‘लिखि कागद कोरे’ (1972 ई.)- अज्ञेय, ‘भारतीय संस्कृति के स्वर’ (1993 ई.)- महादेवी वर्मा और ‘तुम चंदन हम पानी’ (1957 ई.)- विद्यानिवास मिश्र
21. निम्नलिखित में से कौन-सा युग्म असंगत है?
अकाल में सारस – केदारनाथ सिंह
आलोचना का आकाश – मधुरेश
चुका भी नही हूँ मैं – शमशेर बहादुर सिंह
इन दिनों – अशोक वाजपेयी
‘इन दिनों’ (2002 ई.) कविता संग्रह के लेखक कुँवर नारायण हैं।
22. निम्नलिखित में से कौन-सा कवि ‘तार सप्तक’ के कवियों में शामिल नहीं है?
नेमिचंद्र जैन
भारतभूषण अग्रवाल
प्रभाकर माचवे
रघुवीर सहाय
रघुवीर सहाय ‘दूसरा सप्तक’ (1951 ई.) के कवि हैं।
23. निम्नलिखित में से कौन-सा युग्म असंगत है?
एक कहानी यह भी – आत्मकथा
एक बूँद सहसा उछली – यात्रा साहित्य
स्मृति में रहे वे – संस्मरण
माटी की मूरतें – जीवनी
माटी की मूरतें (1946 ई.) रामवृक्ष बेनीपुरी द्वारा रचित रेखाचित्र-संकलन है।
24. उच्चारण-स्थल की दृष्टि से ‘श’ किस प्रकार की ध्वनि है?
मूर्धन्य
कंठ्य
दंत्य
तालव्य
जिस ध्वनियों के उच्चारण में जिह्वा का मध्य भाग तालु से स्पर्श करता है, उन्हें तालव्य ध्वनि कहते हैं। जैसे- इ, ई (स्वर) और च, छ, ज, झ, ञ, श, य (व्यंजन)
25. निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सही नहीं है?
वस्तुओं के विषय में विधान करने वाले शब्द क्रिया कहलाते हैं
विधान करने वाले शब्दों की विशेषता बताने वाले शब्द क्रिया विशेषण कहलाते हैं
संज्ञा के जातिवाचक, व्यक्तिवाचक और भाववाचक उपभेद संस्कृत व्याकरण में नहीं हैं
सर्वनाम का उपयोग संज्ञा के स्थान में नहीं होता है
संज्ञा के स्थान पर प्रयुक्त शब्दों को सर्वनाम कहते हैं।
26. निम्नलिखित में से कौन-सा शब्द भाववाचक संज्ञा नहीं है?
लम्बाई
चतुराई
वजन
प्रकृति
जिन शब्दों से किसी प्राणी या पदार्थ के गुण, भाव, स्वभाव के अवस्था का बोध होता है, उन्हें भाववाचक संज्ञा कहते हैं; जैसे- लम्बाई, चतुराई, वजन आदि। ‘प्रकृति’ से समस्त जाति का बोध हो रहा है इसलिए यह जातिवाचक संज्ञा है।
27. निम्नलिखित में असंगत गुम्म है:
विद्यागृह – तत्पुरुष समास
दूधभात – द्वंद्व समास
पश्चिमोत्तर – बहुब्रीहि समास
प्रतिदिन – द्विगु समास
‘प्रतिदिन’ अर्थात हर दिन। इसमें ‘प्रति’ शब्द अव्यय है और ‘दिन’ शब्द संज्ञा है। अत: यहाँ अव्ययीभाव समास होगा।

यह भी देखें-

hindi sahitya Quiz 01

Previous articleHindi Sahitya Quiz 01 | हिंदी साहित्य का महत्वपूर्ण प्रश्न
Next articleफोटो पत्रकारिता का स्वरूप | photo patrakarita