DU BA Prog. Hindi 2nd Semester Syllabus

0
1185
du-ba-programme -2nd-semester-hindi-syllabus
Delhi University BA Prog. Hindi Syllabus

Delhi University BA Programme 2nd Semester Hindi का Syllabus दो भागों में विभाजित है- Major और Non-Major. Major में हिंदी कविता (मध्यकाल और आधुनिककाल) तथा हिंदी का मौखिक साहित्य और उसकी परम्परा है। Non-Major में हिंदी कविता (मध्यकाल और आधुनिककाल) है।

1. BA (PROG) WITH HINDI AS MAJOR

हिंदी कविता (मध्यकाल और आधुनिककाल)

COURSEहिंदी कविता (मध्यकाल और आधुनिककाल)
Nature of the Courseकोर कोर्स (DSC- 3)
Total Credit4
Lecture3
Tutorial1
Practical0
Eligibility Criteria / PrerequisiteDSC- I

Unit 1: (10 घंटे)

  • कबीर- कबीर ग्रंथावली; माताप्रसाद गुप्त; लोकभारती प्रकाशन; 1969 ई. साँच कौ अंग (1), भेष कौ अंग (5, 9, 12) संमथाई कौ अंग (12)
  • सूरदास- सूरसागर संपा. डॉ. धीरेंद्र वर्मा; साहित्य भवन 1990 ई. गोकुल लीला- पद संख्या 20, 26, 27, 60
  • गोस्वामी तुलसीदास- तुलसी ग्रंथावली (दूसरा खण्ड); संपा. आ. रामचंद्र शुक्ल (नागरीप्रचारिणी सभा, काशी)

दोहावली- छंद सं. 277, 355, 401, 412, 490

Unit 2: (10 घंटे)

  • बिहारी- रीतिकाव्य संग्रह; जगदीश गुप्त; साहित्य भवन प्रा. लि. इलाहाबाद; प्रथम

संस्करण; 1961 ई. छंद सं. 3, 14, 16, 18, 23, 24

Unit 3: (10 घंटे)

  • मैथिलीशरण गुप्त: रईसों के सपूत (भारतभारती, वर्तमान खण्ड, साहित्य सदन, झाँसी) पद सं. 123 से 128
  • जयशंकर प्रसाद: बीती विभावरी जाग री (लहर, लोकभारती प्रकाशन, 2000)
  • हिमालय के ऑगन में (स्कन्दगुप्त; भारती भण्डार; इलाहाबाद, 1973)

Unit 4: (10 घंटे)

  • हरिवंश राय ‘बच्चन’- जो बीत गयी (हरिवंश राय ‘बच्चन’ : प्रतिनिधि कविता; राजकमल पेपरबैक्स, संपा. मोहन गुप्त, 2009)
  • नागार्जुन- उनको प्रणाम! (नागार्जुन: प्रतिनिधि कविताएँ, संपा. नामवर सिंह, राजकमल, पेपरबैक्स, 2009)
  • भवानीप्रसाद मिश्र- गीत-फरोश (दूसरा सप्तक, भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशन, द्वितीय संस्करण, 1970)

References:

  • कबीर: हजारीप्रसाद द्विवेदी
  • तुलसी काव्य-मीमांसा: उदयभानु सिंह
  • बिहारी की वाग्विभूति: विश्वनाथ प्रसाद मिश्र
  • सूरदास: ब्रजेश्वर शर्मा
  • सूरदास: रामचंद्र शुक्ल
  • गोस्वामी तुलसीदास: रामचंद्र शुक्ल
  • घनानंद और स्वच्छंद काव्यधारा : मनोहरलाल गौड़
  • मैथिलीशरण गुप्त: व्यक्ति और काव्य: कमलकांत पाठक
  • प्रसाद, पंत और मैथिलीशरण – रामधारी सिंह ‘दिनकर’
  • प्रसाद के काव्य- प्रेमशंकर
  • जयशंकर प्रसाद- नंददुलारे वाजपेयी
  • हरिवंश राय बच्चन- संपा. पुष्पा भारती
  • आधुनिक हिंदी कविता: विश्वनाथ प्रसाद तिवारी

हिंदी का मौखिक साहित्य और उसकी परम्परा

COURSEहिंदी का मौखिक साहित्य
Nature of the Courseकोर कोर्स (DSC) 4
Total Credit4
Lecture3
Tutorial1
Practical0
Eligibility Criteria / PrerequisiteDSC- II

Unit 1: (10 घंटे)

  • मौखिक साहित्य की अवधारणा : सामान्य परिचय, मौखिक साहित्य और लिखित साहित्य का संबंध
  • साहित्य के विविध रूप- लोकगीत, लोककथा, लोकगाथाएँ, लोकनाद्य, लोकोक्तियाँ

Unit 2: लोकगीत: वाचिक और मुद्रित (10 घंटे)

  • संस्कार गीत: सोहर, विवाह, मंगलगीत इत्यादि
  • सोहर: भोजपुरी, संस्कार गीत; श्री हंस कुमार तिवारी; बिहार राष्ट्रभाषा परिषद्‌, पृ. 8, गीत सं. 4
  • सोहर: अवधी, हिंदी प्रदेश के लोकगीत; कृष्णदेव उपाध्याय; पृ. 110, 111; साहित्य भवन; इलाहाबाद
  • विवाह: भोजपुरी; भारतीय लोकसाहित्य : परम्परा और परिदृश्य; विद्या सिन्हा; पृ. 116

निम्नलिखित पाठ्यपुस्तकों के पृष्ठ:

  • हरियाणा प्रदेश का लोकसाहित्य: शंकर लाल यादव; पृ. 231
  • हिंदी प्रदेश के लोकगीत: कृष्णदेव उपाध्याय; पृ. 205
  • वाचिक कविता: भोजपुरी; पं. विद्यानिवास मिश्र, पृ. 49
  • श्रमसंबंधी गीत: कटनी, जंतसर; दँवनी, रोपनी इत्यादि
  • कटनी के गीत; अवधी 2 गीत; हिंदी प्रदेश के लोकगीत : पं. कृष्णदेव उपाध्याय; पृ. 134, 135
  • जंतसारी: भोजपुरी; भारतीय लोकसाहित्य परम्परा और परिदृश्य; विद्या सिन्हा; पृ. 140, 141
  • विविध गीत: घुघुती-कुमाउनी; कविता कौमुदी :ग्रामगीत : पं. रामनरेश त्रिपाठी
  • गढ़वाली: कविता कौमुदी: ग्रामगीत; पं. रामनरेश त्रिपाठी; पु. 801-802

Unit 3: लोककथाएँ एवं लोकगाथाएँ (10 घंटे)

  • विधा का सामान्य परिचय और प्रसिद्ध लोककथाएँ एवं लोकगाथाएँ आल्हा, लोरिक, सारंग- सदावृक्ष, बिहुला
  • राजस्थानी लोककथा नं. 2; हिंदी साहित्य का बृहत्‌ इतिहास; पं. राहुल सांकृत्यायन, पृ. 461-462
  • अवधी लोककथा नं. 2, हिंदी साहित्य का बृहत्‌ इतिहास; पं. राहुल सांकृत्यायन, पृ. 187-188

Unit 4: लोकनाट्य (15 घंटे)

  • विधा का परिचय, विविध भाषा क्षेत्रों के विविध नाट्यरूप और शैलियाँ, रामलीला, रासलीला,
  • मालवा का माच; राजस्थान का ख्याल, उत्तर प्रदेश की नौटंकी, भांड, रासलीला, बिहार-
  • बिदेसिया, हरियाणा- सांग पाठ, संक्षिप्त पदमावत सांग (लखमीचंद ग्रंथावली, संपा. पूरनचंद शर्मा,
  • हरियाणा साहित्य अकादमी, पंडवानी; तीजन बाई)

References:

  • हिंदी प्रदेश के लोकगीत: कृष्णदेव उपाध्याय
  • हरियाणा प्रदेश का लोकसाहित्य: शंकरलाल यादव
  • मीट माई पीपल: देवेन्द्र सत्यार्थी
  • मालवी लोक-साहित्य का अध्ययन : श्याम परमार
  • रसमंजरी: सुचीता रामदीन, महात्मा गांधी संस्थान, मॉरिशस
  • हिंदी साहित्य का बृहत्‌ इतिहास: पं. राहुल सांकृत्यायन; 16वां भाग
  • वाचिक कविता: भोजपुरी- विद्यानिवास मिश्र
  • भारतीय लोकसाहित्य: परंपरा और परिदृश्य- डॉ. विद्या सिन्हा
  • कविता कौमुदी: ग्रामगीत: पं. रामनरेश त्रिपाठी
  • हिंदी साहित्य को हरियाणा प्रदेश की देन-हरियाणा साहित्य अकादमी का प्रकाशन
  • मध्यप्रदेश लोककला अकादमी की पत्रिका- चौमासा

2. BA (PROG) WITH HINDI AS NON-MAJOR

हिंदी कविता (मध्यकाल और आधुनिककाल)

COURSEहिंदी कविता (मध्यकाल और आधुनिककाल)
Nature of the Courseकोर कोर्स (DSC) 3
Total Credit4
Lecture3
Tutorial1
Practical0
Eligibility Criteria / PrerequisiteDSC- I

Unit 1: (10 घंटे)

  • कबीर- कबीर ग्रंथावली; माताप्रसाद गुप्त; लोकभारती प्रकाशन; 1969 ई. साँच कौ अंग (1), भेष कौ अंग (5, 9, 12) संमथाई कौ अंग (12)
  • सूरदास- सूरसागर संपा. डॉ. धीरेंद्र वर्मा; साहित्य भवन 1990 ई. गोकुल लीला- पद संख्या 20, 26, 27, 60
  • गोस्वामी तुलसीदास- तुलसी ग्रंथावली (दूसरा खण्ड); संपा. आ. रामचंद्र शुक्ल (नागरीप्रचारिणी सभा, काशी) दोहावली – छंद सं. 277, 355, 401, 412, 490

Unit 2: (10 घंटे)

  • बिहारी- रीतिकाव्य संग्रह; जगदीश गुप्त; साहित्य भवन प्रा. लि.; इलाहाबाद; प्रथम संस्करण; 1961 ई.

छंद सं. – 3, 14, 16, 18, 23, 24

Unit 3: (10 घंटे)

  • मैथिलीशरण गुप्त: रईसों के सपूत (भारतभारती, वर्तमान खण्ड, साहित्य सदन, झाँसी) पद सं. 123 से 128
  • जययशंकर प्रसाद: बीती विभावरी जाग री (लहर, लोकभारती प्रकाशन, 2000)
  • हिमालय के ऑगन में … (स्कन्दगुप्त; भारती भण्डार; इलाहाबाद, 1973)

Unit 4: (15 घंटे)

  • हरिवंश राय ‘बच्चन’ – जो बीत गयी …. (हरिवंश राय ‘बच्चन’ : प्रतिनिधि कविता; राजकमल पेपरबैक्स, संपा. मोहन गुप्त, 2009)
  • नागार्जुन- उनको प्रणाम! (नागार्जुन: प्रतिनिधि कविताएँ, संपा. नामवर सिंह, राजकमल, पेपरबैक्स, 2009)
  • भवानीप्रसाद मिश्र- गीत-फरोश (दूसरा सप्तक, भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशन, द्वितीय संस्करण, 1970)

References:

  • कबीर: हजारीप्रसाद द्विवेदी
  • तुलसी काव्य-मीमांसा: उदयभानु सिंह
  • बिहारी की वाग्विभूति: विश्वनाथ प्रसाद मिश्र
  • सूरदास: ब्रजेश्वर शर्मा
  • सूरदास: रामचंद्र शुक्ल
  • गोस्वामी तुलसीदास: रामचंद्र शुक्ल
  • घनानंद और स्वच्छंद काव्यधारा: मनोहरलाल गौड़
  • मैथिलीशरण गुप्त: व्यक्ति और काव्य: कमलकांत पाठक
  • प्रसाद, पंत और मैथिलीशरण- रामधारी सिंह ‘दिनकर’
  • प्रसाद के काव्य- प्रेमशंकर
  • जयशंकर प्रसाद- नंददुलारे वाजपेयी
  • हरिवंश राय बच्चन- संपा. पुष्पा भारती
  • आधुनिक हिंदी कविता: विश्वनाथ प्रसाद तिवारी
Previous articleDU BA Hons. Hindi 2nd Semester Syllabus
Next articleजातियों का अनूठापन निबंध- बालकृष्ण भट्ट