हिंदी साहित्य की प्रमुख रचनाओं पर बनी फिल्में

0
4964
hindi-sahity-pr-bani-filmen
हिंदी साहित्य की प्रमुख रचनाओं पर बनी फिल्में

सिनेमा और साहित्य दो अलग-अलग विधाएँ हैं लेकिन दोनों का पारस्परिक संबंध बहुत गहरा है। जब कथा आधारित फिल्में बनने की शुरुआत हुई तो इनका आधार कथा साहित्य ही बना। भारत में बनने वाली पहली फीचर फिल्म दादा साहब फाल्के ने बनाई जो भारतेंदु हरिशचंद्र के नाटक ‘हरिशचंद्र’ पर आधारित थी। बाद में साहित्यिक रचनाओं पर काफी फ़िल्में बनीं लेकिन कुछ अपवादों को छोड़ आधिकांश फ़िल्में पर्दे पर असफल ही रहीं। यहाँ पर कुछ प्रमुख रचनाओं पर बनी फिल्मों (hindi sahity pr bani filmon) की सूची दी जा रही है क्योंकि कई बार इनसे भी प्रश्न पूछ लिए जाते हैं।

हिंदी के प्रमुख उपन्यासों पर बनी फिल्में

hindi upnyason par bani filmen निम्नलिखित हैं-

उपन्यासलेखकफिल्मनिर्देशक
कोहबर की शर्तकेशव प्रसाद मिश्रनदिया के पार (1982)गोविंद मूनिस
तमसभीष्म साहनी1947 का अर्थ (1998)दीपा मेहता
झूठा सचयशपालखामोस पानी (2004)सबीहा सुमेर
जिंदगीनामाकृष्णा सोबतीट्रेन टू पाकिस्तान
पिंजरअमृता प्रीतमग़दर एक प्रेम कथा (2001)अनिल शर्मा
पेशावर एक्सप्रेसकृष्ण चंदरवीर जारा (2004)यस चोपड़ा
गोदानप्रेमचंदगोदान (1963)त्रिलोक जेटली
सेवासदनप्रेमचंदसेवासदन (1938)के. सुब्रमण्यम
गबनप्रेमचंदगबन (1966)ऋषिकेश मुखर्जी
गुनाहों का देवताधर्मवीर भारतीगुनाहों का देवता (1990)कवल शर्मा
सूरज का सातवाँ घोड़ाधर्मवीर भारतीसूरज का सातवाँ घोड़ा (1992)श्याम बेनेगल
सारा आकाशमन्नू भंडारी और राजेन्द्र यादवसारा आकाश (1969)बासु चटर्जी
पति पत्नी और वोकमलेश्वरपति पत्नी और वोबीआर चोपड़ा
एक सड़क सत्तावन गलियाँकमलेश्वरबदनाम बस्ती (1971)प्रेम कपूर
डाक बांग्लाकमलेश्वरडाक बांग्ला (1974)गिरीश रंजन
अठारा सूरज के पौधरमेश बक्षी27 डाउन (1974)अवतार कृष्ण कौल
काशी का अस्सीकाशी नाथ सिंहमोहल्ला अस्सी (2018)चंद्रप्रकाश द्विवेदी
hindi upnyason par bani filmen

हिंदी के प्रमुख कहानियों पर बनी फिल्में

hindi kahaniyon par bani filmen निम्नलिखित हैं-

कहानीलेखकफिल्मनिर्देशक
त्रिया चरित्रप्रेमचंदस्वामी (1941)ए.आर. कारदार
शतरंज के खिलाड़ीप्रेमचंदशतरंज के खिलाड़ी (1997)सत्यजीत रे
सद्गतिप्रेमचंदसद्गति (1981)सत्यजीत रे
मारे गए गुलफाम उर्फ तीसरी कसमफणीश्वर नाथ “रेणु”तीसरी कसम (1966)बासु भट्टाचार्य
उसने कहा थागुलेरीउसने कहा था (1960)मोनी भट्टाचार्य
यही सच हैमन्नू भंडारीरजनीगंधा (1974)बासु चटर्जी
एखाने आकाश नाईमन्नू भंडारीजीना यहाँ (1979)बासु चटर्जी
टोबा टेक सिंहमंटोटोबा टेक सिंह (2017)केतन मेहता
उसकी रोटीमोहन राकेशउसकी रोटी (1969)मणि कौल
आषाढ़ का एक दिन(नाटक)मोहन राकेशआषाढ़ का एक दिन (1971)मणि कौल
मलवे का मालिकमोहन राकेशहिना (1991)राजकपूर, रणधीर कपूर
काली आँधीकमलेश्वरआंधी (1975)गुलजार
मौसम?कमलेश्वरमौसम (1975)गुलजार
सतह से उठता आदमीमुक्तिबोधसतह से उठता आदमीमणि कौल
मायादर्पणनिर्मल वर्मामायादर्पण (1972)कुमार साहनी
दुविधाविजयदान देथापहेली (2005)अमोल पालेकर
चरणदास चोरविजय तेंदुलकरचरणदास चोर (1975)श्याम बेनेगल
फाल्गुनप्रियंवदअनवर (2007)मनीष झा
hindi kahaniyon par bani filmen

# ‘तीसरी कसम’ फणीश्वर नाथ “रेणु” की प्रसिद्ध कहानी मारे गए ग़ुलफ़ाम पर आधारित है। फ़िल्म का निर्देशन बासु भट्टाचार्य ने और निर्माण प्रसिद्ध गीतकार शैलेन्द्र ने किया था। इस फिल्म के मुख्य कलाकारों में राज कपूर और वहीदा रहमान शामिल हैं।
# ‘शतरंज के खिलाडी’ फिल्म में प्रेमचंद स्वयं एक पंच के रुप में अभिनय किया था।

Previous articleहिंदी साहित्य में गुरु-शिष्य परम्परा | prmukh guru-shishy
Next articleभारतीय काव्यशास्त्र के प्रमुख आचार्य एवं उनके ग्रंथ